मुल्तान में दूसरे टेस्ट से बाहर हुए हारिस राउफ

रावलपिंडी | पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हारिस राउफ मुल्तान में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले दूसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं। साथ ही उनके इस सीरीज में खेलने पर संदेह बन गया है। पाकिस्तान पहला टेस्ट 74 रन से हार गया था।

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में अपना डेब्यू करने वाले राउफ क्षेत्ररक्षण के दौरान एक गेंद पर लपके और अपने दाएं पैर की जांघ को चोटिल कर बैठे। उन्हें एमआरआई स्कैन के लिए ले जाया गया था और उसके बाद उन्होंने पूरे मैच में क्षेत्ररक्षण नहीं किया था। पहली पारी में उन्होंने बल्लेबाजी की लेकिन दोबारा गेंदबाजी नहीं की। यह उनके लिए भुला देने वाला डेब्यू भी रहा, जहां उन्होंने 13 ओवर में 78 रन खर्च किए और टेस्ट के पहले दिन सबसे महंगे तेज गेंदबाज रहे।

राउफ के चोटिल होने और शाहीन शाह अफरीदी के इस सीरीज में नहीं होने से पाकिस्तान को अपने 19 सदस्यीय दल से बाहर खिलाड़ी को चुनने का मौका मिला है। इस दल में केवल अब मोहम्मद वसीम जूनियर ही एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज बचे हैं।

वसीम के शामिल होने का मतलब है कि इस सीरीज में एक और पाकिस्तानी खिलाड़ी डेब्यू करेगा, जहां पहले ही रावलपिंडी में चार टेस्ट डेब्यू सौंपे जा चुके हैं। जहां तक मोहम्मद अब्बास और मोहम्मद हसनैन का सवाल है तो वे इन परिस्थितियों में टीम को फायदा पहुंचा सकते हैं। जाहिद महमूद के लिए भी यह मुकाबला अच्छा नहीं रहा जहां उन्होंने दोनों पारियों में कुल मिलाकर 235 रन लुटा दिए, जो डेब्यू पर किसी भी खिलाड़ी के दिए सबसे ज्य़ादा रन हैं।

हालांकि अब यह देखना होगा कि क्या पाकिस्तान एक स्थापित ऑलराउंडर के बिना अपने लगातार दूसरे टेस्ट में जाने का विकल्प चुनता है। फहीम अशरफ और मोहम्मद नवाज दोनों ही दल का हिस्सा हैं और मुल्तान में संतुलन को देखते हुए उनका चयन हो सकता है। रावलपिंडी में पाकिस्तान चार विशुद्ध गेंदबाजों के साथ गया था, जिससे राउफ खु़द नंबर आठ पर बल्लेबाजी करने के लिए आए और उसके बाद नसीम, मोहम्मद अली और जाहिद का नंबर आया।

रावलपिंडी, 6 दिसम्बर (आईएएनएस)| पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हारिस राउफ मुल्तान में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले दूसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं। साथ ही उनके इस सीरीज में खेलने पर संदेह बन गया है। पाकिस्तान पहला टेस्ट 74 रन से हार गया था।

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में अपना डेब्यू करने वाले राउफ क्षेत्ररक्षण के दौरान एक गेंद पर लपके और अपने दाएं पैर की जांघ को चोटिल कर बैठे। उन्हें एमआरआई स्कैन के लिए ले जाया गया था और उसके बाद उन्होंने पूरे मैच में क्षेत्ररक्षण नहीं किया था। पहली पारी में उन्होंने बल्लेबाजी की लेकिन दोबारा गेंदबाजी नहीं की। यह उनके लिए भुला देने वाला डेब्यू भी रहा, जहां उन्होंने 13 ओवर में 78 रन खर्च किए और टेस्ट के पहले दिन सबसे महंगे तेज गेंदबाज रहे।

राउफ के चोटिल होने और शाहीन शाह अफरीदी के इस सीरीज में नहीं होने से पाकिस्तान को अपने 19 सदस्यीय दल से बाहर खिलाड़ी को चुनने का मौका मिला है। इस दल में केवल अब मोहम्मद वसीम जूनियर ही एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज बचे हैं।

वसीम के शामिल होने का मतलब है कि इस सीरीज में एक और पाकिस्तानी खिलाड़ी डेब्यू करेगा, जहां पहले ही रावलपिंडी में चार टेस्ट डेब्यू सौंपे जा चुके हैं। जहां तक मोहम्मद अब्बास और मोहम्मद हसनैन का सवाल है तो वे इन परिस्थितियों में टीम को फायदा पहुंचा सकते हैं। जाहिद महमूद के लिए भी यह मुकाबला अच्छा नहीं रहा जहां उन्होंने दोनों पारियों में कुल मिलाकर 235 रन लुटा दिए, जो डेब्यू पर किसी भी खिलाड़ी के दिए सबसे ज्य़ादा रन हैं।

हालांकि अब यह देखना होगा कि क्या पाकिस्तान एक स्थापित ऑलराउंडर के बिना अपने लगातार दूसरे टेस्ट में जाने का विकल्प चुनता है। फहीम अशरफ और मोहम्मद नवाज दोनों ही दल का हिस्सा हैं और मुल्तान में संतुलन को देखते हुए उनका चयन हो सकता है। रावलपिंडी में पाकिस्तान चार विशुद्ध गेंदबाजों के साथ गया था, जिससे राउफ खु़द नंबर आठ पर बल्लेबाजी करने के लिए आए और उसके बाद नसीम, मोहम्मद अली और जाहिद का नंबर आया।

Post a Comment

0 Comments