ब्रा पहनते समय न करें ये गलतियां, बिगड़ेगा बॉडी शेप और बढ़ेगा साइड फैट

ब्रा पहनना महिलाओं के लिए बहुत ही जरूरी है और उसे सही तरह से पहनना और भी ज्यादा जरूरी होता है। ब्रा को लेकर लोगों के मन में कई तरह की भ्रांतियां होती हैं, लेकिन मैं आपको बता दूं कि ब्रा से जुड़ी गलतियां अधिकतर महिलाएं जाने-अंजाने में कर बैठती हैं।

ये गलतियां महिलाओं के शरीर के लिए भी खराब होती हैं क्योंकि इनके कारण उनका बॉडी शेप बिगड़ भी सकता है और साथ ही साथ ब्रा फैट बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। अपर बॉडी के बेडौल होने के पीछे काफी हद तक ब्रा फैट का भी हाथ होता है और इसे कम करने के लिए हमें सिर्फ एक्सरसाइज ही नहीं ब्रा से जुड़ी कुछ सावधानियां बरतने की भी जरूरत होती है। ये ब्रा मिस्टेक्स हमारे शरीर को बेडौल बना सकती हैं इसलिए ये जरूरी है कि हम ब्रा से जुड़ी ये गलतियां न करें। 

कई महिलाओं और लड़कियों की ये आदत होती है कि वो दो या तीन दिन लगातार एक ही ब्रा पहन लेती हैं। ये आदत गलत है। इसका सीधा सा कारण ये है कि ब्रा में इलास्टिक होती है और अगर उसे पहनने में एक दिन का गैप भी न दिया जाए तो वो ज्यादा खिंच सकती है। एक दिन का गैप अगर दिया जाता है तो इलास्टिक वापस अपनी पोजीशन पर आ सकती है।

ब्रा की इलास्टिक अगर खराब होती है तो उसका शेप भी ब्रेस्ट साइज के हिसाब से खराब हो जाता है।

ब्रा को एक ही दिन में बहुत लंबे समय तक पहने रहना और उसे 8-9 महीने तक इस्तेमाल करना उसकी इलास्टिक के लिए सही नहीं होता। ब्रा में भले ही एक्सपायरी डेट नहीं लिखी होती है, लेकिन ये भी एक्सपायर्ड होती हैं और 8-9 महीने बाद इसका शेप बदलने लगता है। बॉडी के शेप के अनुसार अपनी ब्रा को कम से कम साल में दो बार तो बदलना चाहिए। 

अब शायद आप सोच रहे होंगे कि इसका ब्रा फैट बढ़ने की समस्या से क्या लेना देना तो मैं आपको बता दूं कि कुछ ड्रेसेस में एक निश्चित तरह की ब्रा लगती है जिसका शेप प्लेन होता है, शर्ट्स आदि में पुश अप ब्रा की जरूरत नहीं होती और अलग-अलग शेप और साइज के आउटफिट्स के साथ ब्रा के शेप में भी बदलाव आता है।

ऐसे में अगर आप एक ही तरह की ब्रा हर आउटफिट के साथ पहनेंगी तो आपकी अपर बॉडी को वैसा सपोर्ट नहीं मिलेगा जो उसे मिलना चाहिए। अगर आप लंबे समय तक लगातार ये करती हैं तो यकीनन आपका ब्रा बल्ज बढ़ने लगेगा।  

ये अक्सर कॉटन ब्रा के साथ होता है। जब उनका शेप बिगड़ जाता है तब भी कई महिलाएं उसे पहनती रहती हैं और हम देखते हैं कि ब्रा का हुक पीठ में बहुत ऊपर की ओर चढ़ गया है। ये गलत है, आपका ब्रा का हुक सामने के साइड से प्रपोर्शनल ही होना चाहिए और अगर पीछे की ओर से ब्रा ज्यादा ऊपर उठ रही है तो इसका मतलब ये है कि वो शरीर को ठीक तरह से सपोर्ट नहीं करेगी। ऐसे में बैक फैट की समस्या भी हो सकती है और पीठ में गर्द के नीचे और लव हैंडल्स पर ज्यादा फैट जम सकता है। 

बैंड का साइज इस बात पर निर्भर करता है कि आपके सांस लेने पर ब्रा कितनी स्ट्रेच हो सकती है। ऐसा जरूरी नहीं है कि आप अपने ब्रा के हुक को हमेशा सबसे आखिरी वाले बैंड में ही लगाएं। जब ब्रा एक लिमिट तक स्ट्रेच हो जाती है तब आपको अगले बैंड पर शुरू करना चाहिए। जब भी ब्रा खरीदें तो ध्यान रखें कि शुरुआत हमेशा पहले हुक बैंड से ही करनी चाहिए।  

ये गलती ब्रा चुनते समय होती है। अक्सर महिलाओं को अपने कप साइज को लेकर गलत फहमी होती है। ब्रा का चुनाव हमेशा रिब केज और कप साइज दोनों का ध्यान रखते हुए ही करना चाहिए।  

ब्रा को धोते समय न करें ये गलतियां

ब्रा को धोते समय भी आपको ये ध्यान रखना चाहिए कि अगर आप इसे वॉशिंग मशीन में धो रही हैं तो इसका शेप बिगड़ सकता है। खास तौर पर अंडरवायर और पैडेड ब्रा को हाथ से धोना सही होता है। इसी के साथ, अगर आप इसे वूल फैब्रिक सॉफ्टनर में धोती हैं तो भी इसकी इलास्टिक को नुकसान पहुंचेगा।

वूल फैब्रिक सॉफ्टनर कपड़ों को बहुत ज्यादा सॉफ्ट कर देते हैं और ऐसे में ब्रा के कप और उसकी इलास्टिक के साथ भी यही होगा। इस तरह से आपकी ब्रा जल्दी खराब हो सकती है। 

अपनी ब्रा के साथ आप ये गलतियां न करें और हमेशा ये ध्यान रखें कि ब्रा के सही शेप से ही आपकी बॉडी का सही शेप रहेगा। ब्रेस्ट की हेल्थ भी बहुत जरूरी है।

Post a Comment

0 Comments