प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत

प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़ : एसडीएम की पिटाई से घायल नायाब नाजिर की मौत


प्रतापगढ़, 02 अप्रैल (हि.स.)। लालगंज तहसील में तैनात नायब नाजिर की पिटाई के बाद इलाज के दौरान शनिवार की रात लगभग आठ बजे मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध जिला अस्पताल में मौत हो गई। घटना के बाद परिजनों व साथी सरकारी कर्मचारियों ने आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। पुलिस ने कार्रवाई का भरोसा देकर शांत कराया है।

तहसील में कार्यरत नायाब नाजिर को एसडीएम लालगंज ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह ने गुरुवार को मारापीटा था। जिसके बाद नायाब नाजिर सुनील कुमार शर्मा ने एसडीएम पर मारने-पीटने का आरोप लगाते हुए लालगंज थाने में तहरीर दी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। एडीएम ने मामले को संज्ञान में लिया और नायाब नाजीर की इलाज शुरु हुआ। शनिवार की रात लगभग आठ बजे के करीब उसकी मौत हो गई। नायाब नाजिर की मौत और जिला प्रशासन द्वारा मामले को दबाये जाने के लेकर परिजनों व कर्मचारियों ने हंगामा शुरू कर दिया। बवाल को देखते हुए मेडिकल कॉलेज प्राचार्य पीछे के दरवाजे से भाग निकले।

आरोप है कि एक घंटे से अधिक समय तक प्राचार्य ने शव को ओटी में ही रखवा रखा था। परिजनों का आरोप है कि जब तक आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती तब तक शव का पोस्टमार्टम नहीं होने देंगे। खबर लिखे जाने तक अब मामला जब विभाग से जुड़ा हुआ है तो पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी किसी ने किसी तरह से मामले को शांत कराने में लगे हुए है।

हिन्दुस्थान समाचार/दीपेन्द्र

Post a Comment

0 Comments