मप्र को मिला ई-निविदाओं का प्रतिष्ठित 19वां सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस अवार्ड

मप्र को मिला ई-निविदाओं का प्रतिष्ठित 19वां सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस अवार्ड


मप्र को मिला ई-निविदाओं का प्रतिष्ठित 19वां सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस अवार्ड


भोपाल, 24 अप्रैल (हि.स.)। एमपी टेंडर्स पोर्टल ने परियोजना श्रेणी में वर्ष 2021 के लिए प्रशंसा का राष्ट्रीय स्तर का प्रतिष्ठित “सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस” अवार्ड प्राप्त किया है। प्रयागराज में हुए समारोह में यह पुरस्कार मध्यप्रदेश राज्य इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम (एमपीएसईडीसी) की मुख्य महाप्रबंधक अंजू पवन भदौरिया ने टीम के साथ प्राप्त किया।

जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने रविवार को उक्त जानकारी देते हुए बताया कि सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस अवार्ड प्रतिष्ठित राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार है, जो कंप्यूटर सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नेंस में किये गए नवाचारों को स्वीकार करने के लिए दिया जाता है। ऑनलाइन ई-निविदा प्रणाली के लिए नोडल एजेंसी के रूप में एमपीएसईडीसी की भागीदारी के साथ वर्ष 2006 में साहसिक कार्य शुरू किया और तमाम चुनौतियों के साथ प्रोजेक्ट को लागू भी किया गया। यह उपलब्धि मध्यप्रदेश राज्य इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम के लिए दूरदर्शी परियोजना साबित हुई हैं।

उन्होंने बताया कि 19वां “सीएसआई एसआईजी ई-गवर्नेंस” अवार्ड 2021 निविदाओं के लिए प्रशंसा का पुरस्कार के रूप में मध्यप्रदेश सरकार ई-प्रोक्योरमेंट सिस्टम एमपीएसईडीसी के लिए मील का पत्थर है। संस्था की कड़ी मेहनत, सकारात्मक दृष्टिकोण और महत्वपूर्ण उत्पादन करने की इच्छा से ऑफलाइन टेंडरिंग मोड से ऑनलाइन टेंडरिंग मोड में पूरे सिस्टम को तकनीक से जोड़ने में सफलता और बदलाव का प्रतीक है।

एमपीएसईडीसी ने न्यूनतम मानवीय भागीदारी के साथ फुलप्रूफ कार्यक्रम के लिए स्थिर समाधान बनाए हैं। संस्था ने पारदर्शिता, आधुनिक तकनीक, मजबूत बुनियादी ढांचा और मजबूत टीम ने इस सफलता को प्राप्त किया है।

संस्था का लक्ष्य अपने भागीदारों को मूल्य-आधारित सेवाएं देने, अच्छे परियोजना प्रबंधन विचारों को अपनाने, लगातार प्रशिक्षण, एक डेटा विश्लेषण डैशबोर्ड सुविधा और फर्म को अपने लक्ष्यों तक पहुंचने में मदद करने के लिए अपने सभी हितधारकों पर ध्यान केंद्रित करना है। प्रमुख उपलब्धि में कमजोर क्षेत्रों की पहचान कर बेहतर परिणामों के लिए समाधानों को लागू किया है। परियोजना में पारदर्शिता की गारंटी के साथ अच्छी नागरिक सेवा बनाए रखने से शासन के विभागों का भरोसा बढ़ा है।

संस्था ने अपनी परियोजना को आसान बनाने के लिए नवीनतम तकनीकी विकास को लागू किया है। डेटा एनालिटिक्स को एक उपकरण के रूप में उपयोग करते हुए विषमताओं का लाभ उठाकर और समस्याओं के मूल कारण का पता लगाने में मदद करके सुधार किया है। एमपी टेंडर्स परियोजना का एक वृहद सामाजिक प्रभाव है। सभी सरकारी विभाग सेवाओं के लिए आईटी का उपयोग करते हैं, इससे राजकोष के लिए वृहद पैमाने पर राजस्व पैदा हुआ है और राज्य में खरीदी प्रक्रिया में पारदर्शिता आई है। मध्यप्रदेश ई-निविदाओं ने राज्य के नेतृत्व वाले ई-सरकार कार्यक्रम का उल्लेखनीय उदाहरण प्रस्तुत कर यह साबित कर दिया है कि कड़ी मेहनत, समर्पण, सकारात्मक दृष्टिकोण और सही मार्गदर्शन कभी व्यर्थ नहीं हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि परियोजना का नेतृत्व प्रबंध संचालक नंदकुमारम, मुख्य महाप्रबंधक अंजू पवन भदौरिया, टीम लीडर अवंतिका वर्मा और आशीष गौतम परियोजना प्रबंधक एमपी निविदाएं एनआईसी द्वारा किया जाता है।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

Post a Comment

0 Comments