रीवाः विचाराधीन महिला बंदी ने अपने पुत्र को शिक्षा-दीक्षा के लिए नानी को सौंपा

रीवाः विचाराधीन महिला बंदी ने अपने पुत्र को शिक्षा-दीक्षा के लिए नानी को सौंपा


रीवा, 04 मार्च (हि.स.)। केन्द्रीय जेल में परिरूद्ध विचाराधीन बंदी राखी उर्फ रेखा शुक्ला अपराध धारा एनडीपीएस एक्ट में जेल में परिरूद्ध हैं। उसका पुत्र दीपक शुक्ला भी एनडीपीएस एक्ट के तहत साथ में जेल आया। वर्तमान में बच्चे की उम्र 5 वर्ष 4 माह हो जाने के कारण महिला बंदी की सहमति से बच्चे की शिक्षा-दीक्षा एवं पालन पोषण के लिये उसकी नानी प्रेमवती को सुपुर्दगी में दिये जाने की बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष ममता नरेन्द्र सिंह की सहायता से उनके परिजनों से काउंसलिंग एवं चर्चा कर उसकी नानी को प्रदान किया गया।

जेल अधीक्षक सतीश उपाध्याय ने शुक्रवार को बताया कि रीवा जेल में वह पढ़ना-लिखना सीख गया है। उसे बाहर स्कूल में भर्ती कराकर पढ़ाने एवं अच्छा लालन-पालन करने के लिये जेल अधीक्षक ने 500 रूपये नगद देकर प्रोत्साहित किया। इस अवसर पर जेल उप अधीक्षक रविशंकर सिंह, राघवेश अग्निहोत्री, वरिष्ठ कल्याण अधिकारी डी.के. सारस सहायक अधीक्षक संजू नायक, प्रशांत सिंह चौहान, संगीत शिक्षा राजेश शुक्ला एवं शिक्षक राजीव तिवारी, स्वदीप सिंह तथा सहायक उपेन्द्र द्विवेदी, श्याम सुंदर दुबे एवं प्रहरी, अधिकारी, कर्मचारी, उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

Post a Comment

0 Comments