सावधान रहे जय श्री राम का नारा लगाने वाले हो सकते हैं कालनेमी: राशिद अल्वी

राकेश पाण्डेय

संभल। कांग्रेस नेता ने जय श्री राम का नारा लगाने वालों की तुलना रामायण के कालनेमि राक्षस से की. उत्तर प्रदेश के संभल के ऐचोड़ा कम्बोह में चल रहे पांच दिवसीय कल्कि महोत्सव में पहुंचे कांग्रेसी नेता राशिद अल्वी ने बीजेपी की तरफ इशारा करते हुए जय श्री राम का नारा लगाने वालों की तुलना रामायण के कालनेमि मायावी राक्षस से करते हुए बड़ा बयान दिया है। कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा कि हम भी चाहते है इस देश में रामराज्य होना चाहिए लेकिन जिस राज्य में बकरी और शेर एक थाम पर पानी पीते हो वहां नफरत कैसे हो सकती है। 

राशिद अल्वी ने बीजेपी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि इस देश में जय श्री राम का नारा लगाकर लोगों को जो लोग गुमराह करते हैं.

ऐसे लोगों से सावधान रहना चाहिए। वही राशिद अल्वी ने इशारों इशारों में बीजेपी पर निशाना साधते हुए जय श्री राम का नारा लगाने बालों की तुलना रामायण के कालनेमि राक्षस से करते हुए कहा कि जब लक्ष्मण मूर्छित होकर गिरे थे तो वैध के कहने पर हनुमान जी हिमालय से संजीवनी बूटी लेने गए थे। उस समय राक्षस नीचे बैठकर जय श्री राम का नारा लगा रहा था। जय श्री राम का नारा सुनकर हनुमान जी नीचे उतर आए थे। 

राक्षस ने हनुमान जी का कीमती वक्त खराब करने के लिए जय श्री राम का नारा लगाने से पहले स्नान करने भेज दिया था। तभी अप्सरा ने हनुमान जी को बताया था कि तुम्हें स्नान करने के लिए भेजने वाला कोई मुनि नहीं है बल्कि घोर राक्षस है। इसलिए सभी को समझना चाहिए कि जय श्री राम का नारा लगाने वाले कोई मुनि नहीं है बल्कि वह राक्षस है जिन से हमें होशियार रहना है।

Post a Comment

0 Comments