पूर्व विधायक दलजीत सिंह के अनिल सिंह बने चुनावी सारथी!

विनोद मिश्रा
बांदा।
कोई भी युध्द हो उसमें सारथी की भूमिका महत्व पूर्ण होती हैं। महाभारत का युध्द "महारथी" के सारथी के महत्व को दर्शाता हैं।

यह भूमिका खबर में हमनें विधानसभा चुनाओ को दृष्टिगत रखते हुये उल्लिखित की है। जिले में चार विधान सभा क्षेत्र है। बांदा, बबेरू, नरैनी एवं तिंदवारी। इन चारों सीटों पर अभी किसी भी राजनीतिक दल नें अभी तक अपने अधिकृत प्रत्याशी घोषित नहीं किये हैं। इसलिए सिर्फ एक नेता को छोड़कर कोई भी टिकटार्थी अभी तक अपना चुनावी सारथी नहीं बना पाया।

हाँ तिंदवारी विधानसभा के पूर्व विधायक दलजीत सिंह नें जरूर अपना चुनावी सारथी अनिल सिंह को घोषित कर दिया हैं। अनिल सिंह इन दिनों पूर्व विधायक दलजीत सिंह के मीडिया प्रभारी के रूप में "सारथी" होने का दायित्व बखूबी निभा रहें हैं। और सारथी बनें अनिल सिंह की कुशाग्र क्षमता का लाभ भी दलजीत सिंह को चुनावी महाभारत में मिलेगा!संभावनाएं इसी ओर संकेत करतीं हैं।

Post a Comment

0 Comments