चेन्नई में फिर बिगड़ेंगे हालात? दक्षिण भारत में आज हो सकती है मूसलाधार बारिश

नई दिल्ली। भारत के कुछ हिस्सों में आज भारी बारिश होने की संभावना है। केरल, तटीय कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और गोवा में सोमवार को तीन प्रणालियों के प्रभाव में भारी वर्षा की संभावना जताई गई है। मध्य अंडमान सागर पर एक कम दबाव का क्षेत्र, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक पर एक चक्रवाती परिसंचरण और इससे सटे उत्तर आंतरिक तमिलनाडु और दक्षिण-पूर्व अरब सागर पर एक चक्रवाती परिसंचरण के कारण कुछ स्थानों पर 18 नवंबर तक बारिश होती रहेगी। तमिलनाडु, पुडुचेरी और तटीय आंध्र प्रदेश में पिछले सप्ताह एक और निम्न दबाव क्षेत्र के प्रभाव में बारिश हुई थी।

अंडमान सागर के ऊपर वर्तमान निम्न दबाव का क्षेत्र उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और आज अंडमान सागर और उससे सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक सुप्रसिद्ध क्षेत्र बन जाएगा। आईएमडी के अनुसार, सिस्टम तब उत्तर-पश्चिम की ओर बंगाल की खाड़ी की ओर बढऩा जारी रखेगा और 17 नवंबर तक और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तट पर 18 नवंबर तक एक अवसाद में केंद्रित हो जाएगा। चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र एक और दिन बने रहने की संभावना है।
17 नवंबर को महाराष्ट्र-गोवा के तट पर अरब सागर में एक और निम्न दबाव का क्षेत्र विकसित होने की संभावना है।
मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि वे सोमवार को अंडमान सागर और उससे सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी में, पश्चिम और पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी में 16 नवंबर से 18 नवंबर तक और आंध्र प्रदेश, दक्षिण ओडिशा और उत्तरी तमिलनाडु के तट पर 17 और 18 नवंबर को न जाएं।
बुलेटिन में यह भी कहा गया है कि 24 घंटे के बाद उत्तर पश्चिम भारत में न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होगी और मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में दो दिनों के बाद न्यूनतम तापमान में वृद्धि होगी। अगले दो से तीन दिनों के दौरान महाराष्ट्र में न्यूनतम तापमान में लगभग 2-3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होगी और अगले पांच दिनों तक देश के बाकी हिस्सों में न्यूनतम तापमान में कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं होगा।

Post a Comment

0 Comments