बिजली विभाग में गुस्से का करेंट गरमाया, अभियंताओं ने आंदोलन की तानी "मुठ्ठी"

विनोद मिश्रा
बांदा।
राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनीयरिंग संघ में गुस्से का करेंट दौड़ रहा हैं। इसका मुख्य कारण ऊर्जा मंत्री की मागों से संदर्भित वादा खिलाफी हैं। प्रदेश स्तर पर आंदोलन का बिगुल बजा तो यहां भी संगठन कें क्रांति कारी नेता कांता प्रसाद नें भी संगठन कें साथ आंदोलन का "मुक्का " तान दिया हैं। आंदोलन कें क्रम में "जेल भरो" भी शामिल हैं।

प्रदेश स्तर पर आन लाइन संगठनकी बैठक कर रणनीति को "पैना" किया जा रहा हैं। मंगल वार को विरोध सभा भी हुई। कल बुधवार को सभी कामों का पाली कार्य छोड़कर सामूहिक बहिष्कार और सभा का शंखनाद भी गूंजेगा! अगले दिन 28अक्टूबर को मशाल जुलूस तथा अगले दिन 29अक्टूबर को संपूर्ण कार्य बहिष्कार केसाथ जेल भरो आंदोलन की शुरुवात की हरी झंडी हो जायेगी। इसमे पाली में कार्यरत सदस्य भी शामिल होंगे।

संगठन कें जुझारू नेता अभियंता कांता प्रसाद नें बताया की मागों केसन्दर्भ में 14अक्टूबर को ऊर्जा मंत्री नें एक सप्ताह में न्याय देने का वादा किया था। उनके वादे पर विश्वास कर आंदोलन स्थगित हुआ था। लेकिन वादा "कोरा" साबित हुआ!प्रदेश संगठन नें मजबूरी वश आंदोलन अनवरत करने का निर्णय लिया। यहां संगठन नें मुख्य अभियंता को आंदोलन संबंधी ज्ञापन भी दे दिया हैं।

Post a Comment

0 Comments