नैनो यूरिया से 20 फीसदी अधिक होगी फसल की पैदावार

मुरादाबाद। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ एग्रीकल्चर साइंसेज के छात्रों ने पंतनगर कृषि विवि की ओर से आयोजित कृषि मेले में इफको, कृभको, नेशनल फर्टिलाइजर, दयाल आदि कृषि कंपनियों के उत्पादकों और यंत्रो को देखा, और उनके बारे में महत्वपूर्ण बिन्दुओं को भी जाना। इफको कंपनी के प्रतिनिधयों ने छात्रों को समझाया, नैनो यूरिया किसानों के लिए एक उपयोगी फर्टिलाइजर है। इस यूरिया के उपयोग से किसान अपनी फसल की पैदावार 20 प्रतिशत तक बढ़ा सकते हैं। मृदा प्रदुषण को कम करने में भी यह खाद बहुत उपयोगी है।

बायो-डीकम्पोजर की उपयोगिता के बारे में बताते हुए कहा, पर्यावरण प्रदुषण के इस बढ़ते समय में बायो-डीकम्पोजर पराली को खाद में बदलकर पर्यावरण को सुरक्षित रखने में सहायक है। वैट मैनकाइंड, हिमायल आदि कंपनियों ने पशुओं में होने वाले रोगों तथा उनके उपचार के बारे में विस्तार से जाना। कृषि विज्ञान केन्द्र काशीपुर ने गन्ने की तीन नई प्रजातियों के बारे में बताया। मेले में छात्रों ने उत्तम प्रकार की नर्सरी को तैयार करना और इसमें होने वाले रोगों की रोकथाम के बारे में भी विस्तार से जाना। इस अवसर पर कॉलेज ऑफ एग्रीकल्चर साइंसेज की फैकल्टी डॉ सुनील कुमार, डॉ. अर्चना नेगी, डॉ. अरविन्द प्रताप सिंह, सहायक कुलसचिव विशेष कुमार आदि मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments