SBI के खाताधारकों को बैंक जाकर निपटाना होगा यह काम, नहीं तो बंद हो जाएगा खाता

लखनऊ। यदि आप लंबे समय तक अपने बैंक खाते से कोई लेनदेन नहीं करते हैं, तो बैंक आपके खाते को निष्क्रिय कर देता है। ऐसे में आप उस अकाउंट से कोई ट्रांजैक्शन नहीं कर पाएंगे। उस खाते को सक्रिय करने के लिए आपको बैंक की शाखा में जाना होगा। आपको बैंक द्वारा निर्धारित प्रक्रिया का पालन करके ही इस खाते को सक्रिय करना होगा। 

आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आपका बैंक खाता बैंक द्वारा कब निष्क्रिय किया जा सकता है और एक बार आपका खाता निष्क्रिय हो जाने के बाद आपको इसे फिर से सक्रिय करने के लिए क्या करना होगा।

आरबीआई के नियम के मुताबिक अगर आप अपने सेविंग या करंट अकाउंट से दो साल तक कोई ट्रांजैक्शन नहीं करते हैं तो बैंक उस अकाउंट को इनऑपरेटिव अकाउंट की कैटिगरी में डाल देता है। इसका मतलब है कि इसके बाद आप इस बैंक खाते से तब तक कोई लेन-देन नहीं कर पाएंगे जब तक आप इसे सक्रिय नहीं कर देते। 

वहीं अगर आप 2 साल बाद भी अपने खाते से कोई लेन-देन नहीं करते हैं तो एक निश्चित समय के बाद आपके खाते में जमा राशि और उसका ब्याज शिक्षा एवं जागरूकता कोष में ट्रांसफर कर दिया जाता है, हालांकि ऐसा करने से पहले खाते में बैंक की ओर से धारक को पूर्व सूचना दी जाती है।

Post a Comment

0 Comments