PUBG गेम न खेलने देने पर दोस्त ने दोस्त कर डाली निर्मम हत्या, कुएं में फेंका शव

अलीगढ़। पब्जी गेम खेलने को मना करने को लेकर दोस्त द्वारा दोस्ती की 4 दिन पहले की गई हत्या के बाद उस बच्चे के शव को जंगल में बने एक कुएं के अंदर उसके हत्यारे दोस्त द्वारा फेंक दिया गया। इलाके में बच्चे की हुई निर्मम हत्या और बच्चे का शव हत्या के 4 दिन बाद आरोपी की निशानदेही पर कुए में शव मिलने के बाद गांव में हड़कंप मच गया जिसके बाद गुस्साए पीड़ित परिजनों और ग्रामीणों ने अलीगढ़ अतरौली मार्ग को जाम करते हुए हंगामा करना शुरू कर दिया।

मिली जानकारी के अनुसार कोतवाली अतरौली इलाके के गांव मढोली में पब्जी गेम खेलने को लेकर एक मासूम बच्चे की बेरहमी के साथ मौत के घाट उतार दिया और शव को गांव के बाहर बने एक कुए के अंदर फेंक दिया गया। 

पुलिस ने हत्यारे दोस्त की निशानदेही पर बच्चे के शव को 4 दिन बाद गांव के अंदर बने एक कुए के अंदर से बरामद किया गया है। बच्चे की हत्या के बाद आक्रोशित परिजनों सहित ग्रामीणों ने रास्ते को जाम कर दिया ।

जानकारी के अनुसार गांव मढौली निवासी राजाराम का 16 वर्षीय बेटा सुमित कुमार डीकेएस स्कूल में कक्षा 9 वीं का छात्र था। तीन दिन से किशोर लापता था। परिजनों ने गांव के ही विनोद पुत्र चंद्रपाल पर शक जताते हुए पुलिस से शिकायत की थी। पुलिस ने विनोद को थाने लाकर पूछताछ की तो उसने हत्या की बात कबूल कर ली। 

पूछताछ के दौरान विनोद ने पुलिस को बताया कि मोबाइल को लेकर उसका सुमित से झगड़ा हो गया था। इसी गुस्से में उसने सुमित की गर्दन के चुनरी डालकर गला घोंट कर हत्या कर दी और हत्या करने के बाद उसके शव को राज ढाबा के पीछे भट्ठा के निकट कुएं में फेंक दिया गया। हत्यारे द्वारा हत्या का जुर्म कबूल करने के बाद अतरौली पुलिस ने हत्यारे को साथ लेकर उसकी निशानदेही पर घटनास्थल पर पहुंच गई। जिसके बाद सोमवार को मौके पर पहुंची पुलिस ने हत्यारे की निशानदेही पर मृतक सुमित के शव को कुएं से अंदर से बाहर निकलवाते हुए बरामद किया गया। मृतक सुमित के शव को पुलिस ने अपने कब्जे में लेकर पंचनामा भरते हुए अलीगढ़ मोर्चरी पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

मृतक सुमित के परिजनों की मानें तो उनका आरोप है कि सुमित 27 तारीख की सुबह से गायब था जिसके बाद गायब बच्चे सुमित को परिजनों द्वारा सब जगह तलाश किया गया था। लेकिन सुबह से लेकर शाम तक तलाश करने के बाद बच्चे का कुछ पता नहीं चला और घर लौट कर नहीं आया जिसके अगले दिन परिजनों द्वारा कोतवाली अतरौली थाने में 28 अगस्त को गाय बच्चे सुमित की गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी। थाने में गुमशुदगी दर्ज होते ही पुलिस एवं पीड़ित परिजनों सहित स्थानीय लोगों के द्वारा तलाश किया गया लेकिन गायब बच्चे सुमित का कहीं कोई सुराग और कुछ पता नहीं चला सका। जिसके बाद पीड़ित परिजनों का शक गांव मढोली निवासी एक बच्चे विनोद पर गया। जिसके बाद पीड़ित परिजनों के शक के आधार पर पुलिस ने विनोद को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी गई। पुलिस कस्टडी में हिरासत में लिए गए विनोद से जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसके द्वारा सुमित की हत्या करने का जुर्म कबूल किया गया। जिसके बाद उसके द्वारा बताया गया कि उसने सुमित की हत्या करने के बाद कोतवाली अतरौली इलाके के सात नंबर भट्टे के पास बने एक पुराने कुए के अंदर विनोद द्वारा हत्या कर सुमित का शव फेंक दिया गया था। जुर्म कबूल होते हैं पुलिस द्वारा पीड़ित परिजनों को सोमवार के मध्य रात्रि 3 बजे फोन कर जानकारी दी गई कि उनके बच्चे की हत्या कर दी गई है और हत्या कर शव को कुएं में फेंक दिया गया जिसके बाद पुलिस ने पीड़ित परिजनों को कोतवाली अतरौली बुलाया गया। बच्चे की हत्या की जानकारी मिलते ही पीड़ित परिजन कोतवाली अतरौली पहुंच गए।

मृतक परिजनों का कहना है कि पुलिस के बताए अनुसार जानकारी दी गई कि मोबाइल को लेकर दोनों के बीच झगड़ा हुआ था। इसी मोबाइल के झगड़े को लेकर विनोद ने सुमित की हत्या कर दी और उसके शव को कुएं में फेंक दिया।

Post a Comment

0 Comments