जनसहयोग से पत्रकारों के लिए कारपस फंड बनाएगा आईएफडब्लूजे

नोएडा। एक पत्रकार से ज्यादा जानकार और जनता से ज्यादा समझदार कोई नही होता है।  पत्रकार समाज का आइना है। आइना जब झूठ बोलना शुरू कर दे तो स्थितियां बदल जाती हैं। इसलिए आइने को सच्चाई बनाए रखना चाहिए। मैं आइने का सम्मान करता रहा हूं।

इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट (आईएफडब्लूजे) की कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री व नोएडा के सांसद महेश शर्मा ने कहा कि महामारी ने पूरी दुनिया के साथ ही पत्रकारिता के सामने भी बड़ा संकट खड़ा किया है जिससे मुकाबले के लिए संगठनों को तैयार होना पड़ेगा। महामारी के दौरान पत्रकारों के सामने उत्पन्न हुए आजीविका के संकट को देखते हुए पत्रकार संगठनों को आगे आकर उनकी मदद के लिए कारपस फंड बनाना चाहिए। सरकार व सरकारी संस्थाओं पर निर्भर होने के बजाय पत्रकार संगठनों को खुद को मजबूत करना होगा।

आईएफडब्लूजे के प्रधान महासचिव परमानंद पांडे ने महेश शर्मा की बातों से सहमति जताते हुए कहा कि पत्रकारों की आपात स्थितियों में मदद के लिए कोष बनाने का काम जल्द शुरु किया जाएगा। उन्होंन कहा कि इसके लिए क्राउड फंडिंग का भी सहारा लिया जाएगा। पांडे ने कहा कि वेतन बोर्ड की सिफारिशों को लेकर फेडरेशन ने लंबा संघर्ष किया है और अब पत्रकारों के सामने नौकरी का संकट खड़ा होने पर उसके लिए भी लड़ाई लड़ी जाएगी। 

आईएफडब्लूजे उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने कहा कि महामारी का दौर अभूतपूर्व रहा है जिसे हमने पहले कभी नहीं देखा। इस काल ने मीडिया के सामने चुनौतियां भी नयी तरह की खड़ी की है। मीडिया संगठनों को इन चुनौतियों का सामना करने के लिए खुद को तैयार करना होगा।

हेमंत तिवारी ने कहा कि जल्दी ही मुंबई में अथवा राजधानी दिल्ली मे फेडरेशन का एक बड़ा सम्मेलन कर देश भर के एक हजार से ज्यादा पत्रकारों के बीच इन चुनौतियों पर चर्चा की जाएगी।

वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि कोरोना काल में पत्रकारों का इलाज हो या उनके अवसान की दशा में परिजनों की आर्थिक सहायता, आईएफडब्लूजे ने सराहनीय काम किया है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को तेजी से बढ़ते डिजिटल युग के लिए खुद को तैयार करना होगा। 

वरिष्ठ पत्रकार व साहित्यकार प्रदीप सौरभ ने आईएफडब्लूजे की दिल्ली ईकाई में पदाधिकारी रहने के दौरान अपने संघर्षों को याद करते हुए कहा कि उन्हें यह देख कर खुशी हो रही है कि संगठन एक बार फिर से कमर कस कर पत्रकारों के लिए लड़ने को तैयार है।

आईएफडब्लूजे के वर्किंग कमेटी की बैठक के दौरान नवनिर्वाचित यूपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन (यूपीडब्लूजेयू) के पदाधिकारियों का सम्मान भी किया गया। पूर्व केंद्रीय मंत्री व नोएडा सांसद महेश शर्मा ने यूपीडब्लूजेयू अध्यक्ष टीबी सिंह, महासचिव राजेश महेश्वरी, प्रदेश सचिव संतोष गुप्ता, इंद्रमणि, अजय त्रिवेदी और राजेश मिश्रा को सम्मानित किया। 

इस मौके पर यूपीडब्लूजेयू अध्यक्ष टीबी सिंह ने कहा कि प्रदेश में हर महीने नयी ईकाईयों का गठन करते हुए संगठन का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जल्दी ही यूपी में किसी बेहतरीन स्थल पर आईएफडब्लूजे का राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा।

आईएफडब्लूजे वर्किंग कमेटी की बैठक में भाग लेने के लिए कर्नाटक राज्य ईकाई से पी वेंकटमुनि, सत्यनारायण शर्मा, तमिलनाडू से राष्ट्रीय सचिव के असददुल्लाह, के. बाला, फैजुल रहमान, तेलंगाना से के. प्रसाद राव , भरत शर्मा, नरसिम्हा पेडिम्पीर, बिहार से सुधांशु कुमार सतीश व चंद्रशेखरम, यूपी से सिद्धार्थ कलहंस, श्याम बाबू, वीरेंद्र सिंह, सुनील दिवाकर, आशीष बाजपेयी, रोहित महेश्वरी, धर्मेंद्र सिंह, दिल्ली से अलक्षेंद्र सिंह नेगी, अशोक शर्मा, अशोक तिवारी, हरियाणा से मयंक तिवारी, राजस्थान से दिनेश वशिष्ठ, महाराष्ट्र ईकाई के संयोजक सुरेंद्र शर्मा, मुरादाबाद से संतोष गुप्ता सहित अन्य मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments