दूल्हा-दुल्हन को देना होगा आधार नंबर, युवा उलेमा ने तैयार किया मॉडल निकाहनामा

गोरखपुर। शहर के कुछ युवा उलेमा ने मॉडल निकाहनामा तैयार किया है। यह निकाहनामा केवल निकाह का वैध दस्तावेज ही नहीं होगा बल्कि निकाह, महर, तलाक के नियमों के प्रति लोगों को जागरुक भी करेगा। यही नहीं यह पहला ऐसा निकाहनामा होगा जिसमें दूल्हा-दुल्हन की फोटो भी लगी होगी।

तंजीम दावतुस्सुन्नाह से जुड़े कारी मो. अनस रजवी, कारी ओबैदुल्लाह व कारी अनीस द्वारा तैयार मॉडल निकाहनामा उर्दू के साथ अंग्रेजी भाषा में भी है। निकाहनामा में दूल्हा, दुल्हन, मां-बाप व गवाहों का विवरण आधार कार्ड नम्बर के साथ देना होगा। निकाहनामा में सभी विवरण के लिए अलग-अलग कॉलम दिए गए हैं। निकाहनामा में निकाह का समय, जगह, तारीख़ का कॉलम दिया गया है। निकाह पढ़ाने वाले काजी का विवरण हस्ताक्षर व मोहर के साथ दर्ज होगा।


निकाहनामा तैयार करने में अहम भूमिका अदा करने वाले कारी मो. अनस रजवी ने बताया कि मॉडल निकाहनामा समय की अनिवार्य जरूरत है। शरीअत की नजर में निकाह बहुत आसान है मगर हमारी गलत रस्मों व दहेज मांगने की परंपरा ने निकाह को बड़ा मसला बना दिया है। दीन-ए-इस्लाम में बारात व बारात की दावत का कोई सिस्टम नहीं है। इसके बावजूद बारात व बारात की दावत को निकाह का आवश्यक हिस्सा बना दिया गया। अब समय आ चुका है कि गलत रस्मों रिवाज को खत्म किया जाए।

उन्होंने कहा कि सभी निकाह मस्जिद में शरीअत के मुताबिक हों। महर की रकम दुल्हन तय करे। निकाह व तलाक के सही नियमों के प्रति लोगों को जागरुक किया जाए। इन्हीं सब मकसदों के तहत मॉडल निकाहनामा तैयार किया गया है। यह निकाहनामा वैध दस्तावेज होने के साथ-साथ निकाह, महर, तलाक आदि के नियमों के प्रति जागरुक भी करेगा। निकाहनामा के पीछे इसके ताल्लुक से विवरण मौजूद रहेगा। निकाह के वक्त दूल्हा व दुल्हन पक्ष को निकाहनामा की कॉपी दी जाएगी। निकाहनामा ऑनलाइन भी मिल सके इसके लिए वेबसाइट भी बनाई जाएगी ताकि रजिस्टर्ड नम्बर के जरिए निकाहनामा ऑनलाइन हासिल किया जा सके। इस निकाहनामा से धोखाधड़ी के मामलों पर लगाम लगेगी।

Post a Comment

0 Comments