Thursday, 3 June 2021

अपराधी डॉन "सर्वेश" को आखिर कब होगी जेल!

विनोद मिश्रा
बांदा।
जिला उद्दोग विभाग को यहां करोड़ों का चूना लगाने वाला भ्रष्टचार और कदाचारण का "डान" जो मोदी से लेकर योगी तक पर प्रहार कर रहा है आखिर वह कब होगा पुलिस के शिकंजे में!इसकी गूंज बांदा से उठने लगी है! अपने असंसदीय आचरण से पूरी भाजपा को बदनाम करने का कुचक्र करने वाला आखिर किस की शह पर गर्जना कर रहा है? आप सब सोच रहे होगे की यह भ्रष्टाचारी "डान" सर्वेश दीक्षित आखिर है कौन?तो हम आपको इसके काले अध्याय से अवगत करायेगें।

सर्वेश दीक्षित बांदा में सहायक आयुक्त उद्दोग पद पर कार्यरत था। अपने तैनाती काल में उसने उद्दोग विभाग कार्यालय के ही कई
प्लाट यहां के व्यापारियों को अवैधानिक तरीके से हस्तांतरण कर सरकारी राजस्व को करोड़ों को चूना लगा दिया।
यह मामला सदर विधायक प्रकाश दिवेदी के संज्ञान में आया तो उन्होने प्रकरण शासन-प्रशासन के संज्ञान में लाया। इस पर इसने मामले को दबाने के लिये सदर विधायक प्रकाश की चरण वंदना की, लेकिन सरकार एवं बांदा के व्यापारियों से धोखा करने वाले इस सर्वेश को सहारा देने की बजाय उसे विधायक के यहां दुत्कारा गया।
विधायक प्रकाश के सख्त लहजे के चलते इसके खिलाफ एफआई आर दर्ज हुई औऱ निलंबन की कार्यवाई हो गई। इसी क्रम में मुख्य मंत्री योगी नें जांच कराकर सर्वेश को बर्खास्त करवा दिया।
बर्खास्तगी के बाद कथित तौर पर मानसिक दिवालिया हो गये इस व्यक्ति नें तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन की। सदर विधायक से लेकर मुख्य मंत्री योगी यहां तक की पीएम मोदी पर तक अमर्यादित टिप्पड़ियाँ करने लगा! कोरोना काल में सरकार की व्यवस्थाओं का मजाक सोशल मीडिया पर अमर्यादित ढंग से उछालना इसका शगल सा बन गया है!
यहां यह भी बता देना समाचीन होगा की उत्तर प्रदेश सरकार ने  लोक सेवा आयोग की सहमति प्राप्त होने पर प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डॉ. नवनीत सहगल ने उनकी बर्खास्तगी का आदेश जारी किया था।
अपनी बर्खास्तगी से बौराया यह अपराधी "डान" आखिर अब तक जेल की सलाखों से बचा कैसे है? इस पर योगी सरकार को गौर करना चाहिए।
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: