Friday, 4 June 2021

सदी की सबसे बड़ी चुनौती कोरोना महामारी : मोदी

नई दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएसआईआर की सालाना बैठक में कोरोना महामारी को सदी की सबसे बड़ी चुनौती करार दिया। वहीं कोरोना संकट काल में स्वदेशी वैज्ञानिकों को आभार जताते हुए कहा कि एक साल में कोरोना किट बनाकर भारत को आत्मनिर्भर बनाया गया। 

पीएम मोदी ने पीएम नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वैज्ञानिकों की तारीफ की है। उन्होंने कोरोना की सदी की सबसे बड़ी चुनौती बताया और कहा कि इतिहास गवाह है कि जब भी जब-जब मानवता पर कोई संकट आया है तो विज्ञान ने बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार कर दिए हैं। पीएम मोदी ने आगे कहा कि बीती शताब्दी का अनुभव है कि जब पहले कोई खोज दुनिया के दूसरे देशों में होती थी तो भारत को उसके लिए कई-कई साल का इंतजार करना पड़ता था। लेकिन आज हमारे देश के वैज्ञानिक दूसरे देशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं, उतनी ही तेज गति से काम कर रहे हैं।

हमारे वैज्ञानिकों ने एक साल में ही स्वदेशी कोरोना वैक्सीन तैयार कर दी। कोरोना की बीमारी से निपटने के लिए नई-नई दवाएं खोजीं। ऑक्सीजन के उत्पादन में इजाफे के लिए प्रयास किए। पीएम ने कहा कि हमारी इस संस्था ने देश को कितनी ही प्रतिभाएं दी हैं, कितने ही वैज्ञानिक दिए हैं। शांतिस्वरूप भटनागर जैसे महान वैज्ञानिक ने इस संस्था को नेतृत्व दिया है। उन्होंने कहा कि आज भारत सस्टेनेबल डेवलेपमेंट और क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है। आज हम सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट्स तक, दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं, दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं।

आम लोगों को भी वैज्ञानिक रिसर्च से जोड़ना होगा

ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि कोई भी व्यक्ति आपके रिसर्च के बारे में जान सकें और चाहता है तो फिर जुड़ भी सके। इसके लिए आपको निरंतर जोर देना होगा। इससे आपके काम और प्रोडक्ट्स को भी मदद मिलेगी। साथियों आज देश आजादी के 75 साल पूरे करने वाला है। हमें इस बात को ध्यान में रखते हुए स्पष्ट संकल्पों और निश्चित दिशा में रोडमैप के साथ आगे बढऩा होगा। कोरोना के इस संकट ने भले ही रफ्तार धीमी की है, लेकिन आज भी हमारा संकल्प आत्मनिर्भर और सशक्त भारत है।

विदेशी नागरिकों की वीजा अवधि 31 अगस्त तक बढ़ाई

गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण भारत में फंसे विदेशी नागरिकों के वीजा की अवधि 31 अगस्त तक बढ़ा दी गई है। यह राहत उन्हें निशुल्क दी गई है। इन नागरिकों को बढ़ी हुई वीजा अवधि के लिए न तो कोई आवेदन करना होगा और न ही किसी तरह की पेनल्टी या शुल्क अदा करना होंगे। 

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: