Saturday, 5 June 2021

अटकलों पर भारी पड़े सीएम योगी, केन्द्र सरकार ने कैबिनेट विस्‍तार के लिए पीठ ठोकी

राकेश पाण्डेय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मची राजनीतिक उथल-पुथल पर विराम लगता दिख रहा है।संगठन और सरकार में नेतृत्व बदलाव नहीं होने के संकेत मिल रहे हैं।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के ही नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी 2022 यूपी विधानसभा चुनाव में पूरे दमखम के साथ ताल ठोक कर उतरेगी।

सूत्रों ने यह भी बताया कि इसी महीने योगी आदित्‍यनाथ मंत्रिमंडल के विस्तार होने की प्रबल संभावना है। इस मंत्री मंडल विस्तार में जातिगत और क्षेत्रीय समीकरणों को साधते हुए नए नवेलों चेहरों को जगह दी जायेगी। सरकार में मौजूदा कुछ मंत्रियों का पत्ता साफ हो सकता हैं। कुछ मंत्रियों के विभागों को बदला जा सकता हैं।

योगी ही क्यों हैं यूपी में बीजेपी के खेवनहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद करीबी पूर्व नौकरशाह अरविंद कुमार शर्मा को सरकार में जगह मिलने की प्रबल संभावना बन रही है। शर्मा को अहम जिम्मेदारी देने के लिए बात लंबे समय से चालू है। फीडबैक मिलने के बाद निर्धारित हुआ कि उत्तर प्रदेश में सरकार और संगठन में सामजस्य बहुत जरूरी है और इसके लिए नियमित रूप से बैठकें होंगी।बीजेपी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा अगले महीने यूपी का दौरा भी करने वाले है।संघ और बीजेपी नेताओं के लगातार दौरों और बैठकों के बाद यह निर्णय  लिया गया है।

योगी के काम की समीक्षा कर दिल्ली लौटे शीर्ष नेता दिया फीडबैक

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ महासचिव दत्तात्रेय होसबाले ने लखनऊ दौरे में संघ के पदाधिकारियों और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से फीडबैक लिए थे।

इसके बाद राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष और प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह को लखनऊ भेजा गया था। लखनऊ में इन दोनों नेताओं ने प्रदेश नेताओं, कई मंत्रियों और विधायकों से मुलाक़ात की थी। कुछ दिनों से चर्चा थी कि स्वतंत्र देव सिंह की जगह उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है, लेकिन विधानसभा चुनाव में कम समय बचे रहने के कारण पार्टी नेतृत्व कोई जोखिम भरा कदम उठाने  के लिए तैयार नहीं है।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: