फ़्रॉड करके ग्राहक के खाते से ऑनलाइन निकली धनराशि वापस करे बैंक

मुरादाबाद/संभल। खाता धारक के खाते से उसकी अनुमति के बिना ऑनलाइन धनराशि निकलने के एक मामले मे जिला उपभोक्ता आयोग ने पंजाब नेशनल बैंक संभल को दोषी मानते हुए निकाली गई धनराशि रुपए 65,026/- नौ प्रतिशत व्याज सहित वापस करने का आदेश दिया है।

मौहल्ला कोट पूर्वी संभल निवासी दंत चिकित्सक रितेश कुमार पुत्र राजीव कुमार का पंजाब नेशनल बैंक की शुक्ला मार्किट ,शाखा मे एक बचत खाता खुला है। जिसमें वह जरूरत पर खाते से धनराशि निकलते एवं जमा करते चले आते थे। दिनाँक 25/05/2019 को शाम लगभग 19.33 मिनट पर चिकित्सक के मोबाइल पर एक एसएमएस आया जिससे उसे ज्ञात हुआ कि उसके खाते से समय समय पर 65,026/-रुपए निकाल लिए गए तो उसे आश्चर्य हुआ उसने तत्काल बैंक के टोलफ्री न०पर सूचना देकर अपने बैंक खाते को ब्लॉक कराया और घटना की सूचना तत्काल बैंक और पुलिस को दी बैंक अधिकारियों से अनुरोध किया कि उसने दिनाँक 25/05/2019 को शाम लगभग 19.33 मिनट पर ना तो एटीएम कार्ड का प्रयोग किया और ना ही किसी को ओटीपी न०दिया ऐसी स्थिति मे उसके खाते से निकाली गई धनराशि के संबंध मे जांच कर धनराशि खाते मे जमा करायी जाए लेकिन बैंक अधिकारियों ने उपभोक्ता की शिकायत पर कोई ध्यान नही दिया। और ना ही धनराशि वापस करायी जिस पर उसने उपभोक्ता मामलों के वरिष्ठ अधिवक्ता देवेंद्र वार्ष्णेय के माध्यम से जिला उपभोक्ता आयोग संभल मे वाद योजित किया जिस पर बैंक की ओर अबगत कराया गया कि दिनाँक 25/05/2019 को खाताधारक ने अपने खाते से यूपीआई एप्प से रूपए क्रमशः 25,000/-, 9,999/- ,9,999/-, 9,999/-, 9,999/-, 20/- व 10/-निकाले।

लेकिन जिला उपभोक्ता आयोग संभल ने सुनवाई के उपरांत पाया कि जबउपभोक्ता के खाते की धनराशि निकासी की सीमा 25,000/-थी तो एक दिन मे रुपए 65,026/-कैसे निकले ट्रांजेक्शन इन्क्वायरी मे भी ट्रांसजेक्शनकर्ता खाताधारक द्वारा नही किये जाने का रिमार्क है। जिसपर जिला उपभोक्ता आयोग संभल ने अधिवक्ता देवेंद्र वार्ष्णेय को सुनकर पंजाब नेशनल बैंक शुक्ला मार्किट संभल को आदेश दिया कि वह वादी के खाते मे 65,026/-रुपए व दिनाँक 25.05.2019 से वास्तविक अदायगी तक 9 प्रतिशत व्याज एक माह के अंदर जमा कराए तथा रुपए 5,000/-वाद व्यय हेतु भी अदा करे।

Post a Comment

0 Comments