कोरोना काल में प्रशासन, स्वास्थ्य, स्वयंसेवी संगठनों, जनप्रतिनिधियों ने मिलकर अच्छा काम किया: योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद वाराणसी के सर्किट हाउस सभागार में कोविड प्रबन्धन सहित विकास कार्यों, निर्माणाधीन परियोजनाओं एवं कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी वेव के दौरान वाराणसी में अच्छा कार्य हुआ है। काशी में कार्य करना सौभाग्य की बात है। पूरी श्रद्धा व तन्मयता से कार्य किया जाए। समस्याओं का समाधान हो। प्रशासन जनप्रतिनिधियों के साथ संवाद बनाए। नगर निगम प्रोजेक्ट बनाते समय जनप्रतिनिधियों का सहयोग ले। निगम से जुड़े नए गांवों में साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित हो। शासन द्वारा उसके लिए धनराशि की व्यवस्था रखी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में प्रशासन, स्वास्थ्य कर्मियों, स्वयंसेवी संगठनों, जनप्रतिनिधियों ने मिलकर अच्छा काम किया है। कोरोना अभी समाप्त नहीं हुआ है। बरसात में कालाजार, मलेरिया, डेंगू आदि बीमारियों से सतर्क रहना है। कोरोना तीसरी लहर की आशंका के दृष्टिगत सतर्कता से कार्य किया जाए। कोरोना से विकास व अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा, अब मौका है अर्थव्यवस्था हेतु विकास में तेजी लायी जाए। कार्यो का भौतिक सत्यापन करें और जवाबदेही तय करें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वाराणसी की वरुणा व अस्सी नदी को व्यवस्थित व संरक्षित करने की कार्यवाही हो, चैनलाइजेशन का कार्य हो। गंगा जी, वरुणा व अस्सी में प्रदूषित जल जाने से रोका जाए। सरकारी अस्पताल, सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बड़ी संख्या में उपकरण आदि उपलब्ध कराए गए हैं। इनके सम्बन्ध में अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को इसकी जिम्मेदारी दी जाए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कारण काशी को नई पहचान मिली है। यहां धन की उपलब्धता है। संसाधन उपलब्ध है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना दीपावली तक संचालित होगी। कोटेदार की दुकान पर एक साथ भीड़ न जुटे और ई-पाॅस मशीन से खाद्यान्न वितरण हो।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समय प्रदेश में चार लाख से अधिक वैक्सीनेशन रोज हो रहे हैं। 21 जून से 06 लाख से अधिक वैक्सीन की डोज लगेगी तथा आगामी जुलाई से 10 से 12 लाख डोज प्रतिदिन लगेगी। इसकी प्लानिंग कर ली जाए। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के दृष्टिगत बच्चों के लिए मेडिसिन किट दी जा चुकी है। इन्हें 24 जून से वितरित किया जाए। निगरानी समितियों ने अच्छा काम किया है उनका सहयोग दवा वितरण में लिया जाए। कोरोना से हुई माता-पिता की मृत्यु के कारण अनाथ बच्चों हेतु उ0प्र0 मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना लागू की गई है। कोविड-19 के अलावा अन्य कारणों से जो बच्चे अनाथ हो गए हैं और उनके अभिभावक गरीबी रेखा के नीचे हैं, उनको भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित बाल संरक्षण सेवाएं योजना (60 प्रतिशत केन्द्रांश: 40 प्रतिशत राज्यांश) के स्पाॅन्सरशिप कार्यक्रम के अन्तर्गत सम्मिलित करते हुए, उनके अभिभावकों को 2,000 रुपये प्रतिमाह की धनराशि दी जाती है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि निराश्रितों को पेंशन, राशन कार्ड, आवास सुविधा, आरोग्य योजना से आच्छादित किया जाए। हर घर नल योजना से सभी आंगनवाड़ी व प्राइमरी स्कूल आच्छादित हों। ग्रामीण सामुदायिक शौचालय की केयरटेकर को 6000 रुपये मासिक मानदेय का समय से भुगतान सुनिश्चित किया जाए।
मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि जनपद वाराणसी में माफियाओं के विरुद्ध व्यापक कार्रवाई हुई है। 410 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त एवं ध्वस्त की गई। 393 शराब माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई हुई और उनकी 22 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की गई। जनपद में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अब तक 338.45 करोड़ रुपए की धनराशि किसानों के खातों में भेजी जा चुकी है। जनपद में कोविड कन्ट्रोल प्रभावी रूप से हुआ। इस समय पॉजिटिविटी रेट 0.6 फीसदी आ गया है। रिकवरी 98 फीसदी से अधिक है। दूसरी वेव में 1.86 लाख मेडिसिन किट वितरित की र्गइं। तीसरी लहर की आशंका के दृष्टिगत तैयारियां कर ली गई हंै। 14 ऑक्सीजन प्लांट सरकारी अस्पतालों में स्थापित हो रहे हैं। जनपद के समस्त 10 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर ऑक्सीजन प्लांट की प्लानिंग कर ली गई है जो आगामी 30 जुलाई तक लग जाएंगे। जिला मुख्यालय के अस्पतालों के अतिरिक्त ग्रामीण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी बच्चों के लिए बेड आरक्षित रहेंगे। जनपद में पौने सात लाख लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। 18 प्लस के दो लाख युवा वैक्सीनेशन से कवर हो चुके हैं और तेजी से वैक्सीनेशन हो रहा है।
जनपद वाराणसी में वर्तमान में 8238.77 करोड़ रुपए की 136 प्रमुख परियोजनाएं निर्माणाधीन है। जिसमें मई, 2021 तक पूर्ण एवं इस माह जून माह में पूर्ण होने वाली 726.54 करोड़ रुपए की 39 परियोजनाएं हैं। अगले माह जुलाई, 2021 में 1424.42 करोड़ रुपए की 14 परियोजनाएं पूर्ण हो जाएंगी। अगस्त से दिसंबर 2021 तक 3879.49 करोड़ रुपए की 62 परियोजनाएं पूर्ण हो जाएंगी। अगले वर्ष जनवरी, 2022 के बाद 1894.15 करोड़ रुपए से निर्माणाधीन 7 परियोजनाएं पूर्ण हो जाएंगी। 314.17 करोड़ रुपए की 14 परियोजनाएं टेंडर व अन्य प्रक्रिया में हैं।
मई, 2021 तक पूर्ण व जून, 2021 में पूर्ण होने वाली परियोजनाओं में रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर, राजकीय चिकित्सालय पांडेपुर में 50 शैयायुक्त महिला चिकित्सालय का कार्य, बीएचयू में 100 शैयायुक्त मेटरनिटी विंग निर्माण, रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑफथेल्मोलॉजी की स्थापना, बीएचयू में आवासीय भवन निर्माण, पुरानी सीवर का सीआईपीपी लाइनिंग जीर्णोद्धार कार्य, गोदौलिया दुपहिया वाहन पार्किंग, भिखारीपुर तिराहे से एनएच-2 तक सड़क चैड़ीकरण, वाराणसी- गाजीपुर मार्ग पर आरओबी निर्माण, अस्सी घाट से राजघाट तक गंगा नदी के ड्रेजिंग एवं चैनेलाइजेशन कार्य, स्मार्ट स्कूल मछोदरी का निर्माण, शहर के टैगोर टाउन पार्क, गिरी नगर पार्कों का विकास एवं सुंदरीकरण, घाटों पर कल्चरल अपलिफ्टमेंट थ्रू ऑडियो-वीडियो सॉल्यूशन कार्य, ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर निर्माण कार्य आदि है।
जुलाई, 2021 में पूर्ण होने वाली परियोजनाओं में वाराणसी-गाजीपुर फोरलेन चैड़ीकरण कार्य, बीएचयू में 200 कक्ष महिला छात्रावास, वरुणा नदी के चैनेलाइजेशन एवं तटीय विकास, सर्किट हाउस कैम्प्स में भूमिगत पार्किंग, गोदौलिया से दशाश्वमेध घाट तक पर्यटन विकास, एसटीपी रमन्ना का निर्माण, एसटीपी रामनगर का निर्माण आदि है।
अगस्त से दिसंबर, 2021 तक पूर्ण होने वाली परियोजनाओं में बी0एच0यू0 में आवासीय भवन निर्माण, बी0एच0यू0 डॉक्टर/नर्सेज हॉस्टल एवं धर्मशाला निर्माण, बी0एच0यू0 में आई0यू0सी0टी0ई0 भवन निर्माण, राजपूताना छात्रावास में स्टूडेंट एक्टिविटी सेंटर का निर्माण, जौनपुर- वाराणसी मार्ग के चैड़ीकरण कार्य, आजमगढ़- वाराणसी के फोरलेन चैड़ीकरण कार्य, कैंट से पड़ाव का चैड़ीकरण कार्य, बाबतपुर-कपसेठी- भदोही मार्ग पर आरओवी निर्माण, कालिकाधाम पर वरुणा नदी पर पुल निर्माण, कोनिया-सलारपुर मार्ग पर पुल निर्माण, लहरतारा-फुलवरिया मार्ग पर दो आरओवी व फोरलेन सड़क निर्माण परियोजना, विद्युत उपकेंद्र अलईपुर का निर्माण, टाउन हॉल में पार्क व भूमिगत पार्किंग निर्माण, शाही नाला का जीर्णोद्धार, अतिरिक्त सीवर लाइन निर्माण, पिड्रा में आईटीआई का निर्माण, पांडेपुर, चकरा, सोनभद्र, नदेसर व चितईपुर तालाबों का विकास एवं सौंदर्यीकरण, काशी के कालभैरव, कामेश्वर महादेव, राजमंदिर वार्ड, जंगमबाड़ी, दशाश्वमेध व गड़वासी टोला के रिडेवेलपमेंट कार्य, शहर के 720 स्थानों पर एडवांस सर्विलांस कैमरा की स्थापना कार्य, दशाश्वमेध घाट पुनर्विकास परियोजना, खिड़कियां घाट का पुनर्विकास कार्य, विद्युत बस चार्जिंग स्टेशन निर्माण आदि कार्य हैं।
दिसंबर, 2021 के बाद पूर्ण होने वाली परियोजनाओं में वाराणसी रिंग रोड फेज- 2 की परियोजना, कज्जाकपुरा आर0ओ0बी0 का निर्माण, वाराणसी शहर में गैस वितरण परियोजना आदि है। वाराणसी में कुछ महत्वपूर्ण परियोजनाओं निविदा एवं अन्य प्रक्रिया में हैं। जिसमें रीडेवेलपमेंट ऑफ डॉ संपूर्णानंद स्मार्ट स्पोर्ट्स स्टेडियम, मणिकर्णिका घाट का पर्यटन विकास, गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के मुकीमगंज व मछोदरी क्षेत्र के कार्य, खेलो इंडिया खेलो के तहत कार्य, राजकीय महिला डिग्री कॉलेज बीएलडब्लू में निर्माण कार्य व कुछ स्काडा के तहत कार्य आदि हैं।
इस दौरान पर्यटन, संस्कृति, धर्मार्थ कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 नीलकंठ तिवारी, स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क, पंजीयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री रविन्द्र जायसवाल सहित जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments