Thursday, 3 June 2021

अनलॉक के तीसरे फेस में 50 लोगों की उपस्थिति के साथ खुला मैरिज हाल, लेकिन विवाह के केवल 9 मुहुर्त

महासमुंद। अनलॉक के तीसरे फेस में मैरिज हाल को खोलने की अनुमति प्रशासन ने दे दी है, मुहुर्त केवल 9 ही बचा है । यानी 50 दिन केवल 9 शादियां ही होगी । इसके बाद 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी है । इसके बाद मांगलिग कार्यों पर रोक लग जाएगी । सीधे नवंबर में महीने के अंतिम सप्ताह में देव जागेंगे उसके बाद फिर से मांगलिक कार्य प्रारंभ होंगे।  इस बीच तीन महीन तक मांगलिक कार्य नहीं होंगे।

इसलिए परिजन इसी 9 मुहुर्त में अपने बेटे व बेटियों के विवाह निपटा ले, क्योंकि प्रशासन ने मैरिज हाल खोलने की अनुमति के साथ संख्या में बढ़ोतरी कर दी है। अब विवाह में 50 लोग उपस्थित हो सकते हैं । बता दें कि पिछले एक साल से मैरिज हाल संचालकों के हालत खराब है। लॉकडाउन होने की वजह से ऐसी ही शादियां नहीं हो पा रही थी। अब 50 की संख्या में छुट मिलने के बाद भी लोग अपने-अपने घरों में ही शादियां निपटा रहे हैं। बहरहाल प्रशासन की अनुमति के बाद अब लोग मैरिज हॉल में विवाह करा सकते हैं। कलेक्टर डोमन सिंह ने सोमवार को जारी ओदश में खोलने की अनुमति दी है। 

जानिए इस महीने इन तारीखों में बजेगी शहनाई 
पं. हेमंत द्ववेदी ने बताया कि इस महीने विवाह के लिए केवल 9 मुहुर्त है। मार्च व अप्रैल की तुलना जून में विवाह के कम मुहूर्त है। इस माह 3, 4, 5, 16, 19, 20, 22, 23 व 24तारीख को विवाह का मुहुर्त है। इसके बाद 20 जुलाई से 15 नवंबर तक मांगलिक कार्य नहीं होंगे। विवाह के लिए लोगों को तीन महीने का इंतजार करना पड़ेगा। 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी है। 

संक्रमण के कारण 10 की संख्या में संपन्न हुए विवाह 
बता दें कि कोरोना संक्रमण की वजह से अप्रैल 16 के बाद वैवाहिक कार्यों में प्रशासन ने 50 की संख्या को कम करते हुए 10 कर दिए थे। लॉकडाउन में भी शादियां हुई है, लेकिन उतना उत्साह देखने का नहीं मिला। बिना बराती, बैंड बाजा के लोगों ने अपने बेटी व बेटों का विवाह संपन्न कराए । वर्तमान में संक्रमण की दर गिरने के बाद व्यापार पटरी पर धीरे-धीरे लौट रहा है। अभी भी लोगों को सावधानियां बरतनी होगी । कोविड के गाइडलाइन का सख्त पालन करना होगा । जब तक स्थिति सामान्य नहीं होगी, प्रशासन विवाह कार्यक्रमों की शामिल होने की संख्या नहीं बढ़ाएगी।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: