नारदा केस में टीएमसी के 4 नेता गिरफ्तार, सीएम ममता बनर्जी पहुंचीं सीबीआई दफ्तर

कोलकाता। नारदा टेप स्कैम मामले में सीबीआई ने फिरहाद हकीम, शोभन चटर्जी, सुब्रत मुखर्जी और विधायक मदन मित्रा को गिरफ्तार कर लिया है। हाल ही में राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने फिरहाद हकीम समेत टीएमसी के शीर्ष नेताओं पर नारदा घोटाले में केस चलाने की मंजूरी दी थी। सीबीआई आज इस मामले में चार्जशीट दायर करेगी। चारों नेता मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी हैं।

इन सबके बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी सीबीआई दफ्तर पहुंच गई हैं। सीबीआई के अफसर ममता के मंत्रियों और विधायक से पूछताछ कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार, सोमवार सुबह सीबीआइ की टीम इन नेताओं के घर पर गई। सीबीआइ के साथ सेंट्रल फोर्स के जवान भी थे और इन लोगों को सीबीआइ के अधिकारी निजाम पैलेस ले आए हैं। इनके खिलाफ कार्रवाई के लिए राज्यपाल की अनुमति की आवश्यकता थी और गवर्नर जगदीप धनखड़ ने इसकी अनुमति पहले ही दे दी है। इसलिए विधानसभा अध्यक्ष की अनुमति की जरूरत नहीं है। 
सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीबीआई के अफसरों से कहा कि अगर आप इन चार नेताओं को गिरफ्तार कर रहे हैं तो मुझे भी गिरफ्तार करना पड़ेगा, राज्य सरकार या कोर्ट के नोटिस के बिना इन चारों नेताओं को गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं, अगर फिर भी गिरफ्तार करते हैं तो मुझे भी गिरफ्तार किया जाए। इस बीच टीएमसी सांसद और वकील कल्याण बनर्जी भी सीबीआई दफ्तर पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे।
क्या है नारदा स्टिंग
नारदा स्टिंग 2014 का मामला है। दिल्ली के एक पत्रकार ने कोलकाता पहुंच कर अपने आप को एक व्यवसायी बताया था। उसने कथित तौर पर टीएमसी के सात सांसदों, चार मंत्रियों, एक विधायक और एक पुलिस अधिकारी को इन्वेस्टमेंट के नाम पर नगद रुपये दिए थे। इस पूरे घटनाक्रम का पत्रकार ने स्टिंग बना लिया था। 2016 के विधानसभा चुनाव से पहले यह स्टिंग सामने आया था।

Post a Comment

0 Comments