Friday, 23 April 2021

कोरोना काल में ग्राहकों के लिए तीन घंटे ही खुले बैंक

नई दिल्ली। भारतीय बैंक संघ (आईबीए) ने बैंक कर्मियों की सुरक्षा के मुद्दे पर राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) के संयोजकों से कहा कि वह संबंधित राज्यों में व्याप्त कोविड-19 की स्थिति और जरूरतों के मुताबिक बैंक शाखाओं की मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी)में सुधार कर सकते हैं।  

आईबीए के सीईओ सुनील मेहता ने बैंक प्रमुखों को लिखे एक पत्र में कहा, हम एसएलबीसी के संयोजकों को अलग से यह सुझाव दे रहे हैं, कि वह सीएमओ सहित राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अलग से एक बैठक बुलाएं और अपने अपने राज्यों में बन रही ताजा स्थिति पर विचार विमर्श करने के बाद बैंकों को परामर्श जारी करें। इसमें कहा गया है कि यह समझा जाता है कि समूची प्रणाली के लिए स्थानीय स्तर पर दी जाने वाली सलाह अधिक व्यवहारिक और उपयोगी साबित होगी।

नौ बैंक यूनियनों के प्रमुख मंच 'यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) का कहना है कि प्रत्येक बैंक में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, ऐसे में बैंकरों को बीमार होने पर अस्पताल में बिस्तर और आक्सीजन आपूर्ति मिलना मुश्किल हो रहा है।  यूएफबीयू ने आईबीए को भेजे एक ज्ञापन में कहा है कि जब तक स्थिति में सुधार होता है संगठन ने कहा है, हम रोजाना बैंक कर्मचारियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने, उनके अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु होने के समाचार सुनकर बहुत व्यथित हैं। संगठन ने कहा कि पिछले महीने उसने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को पत्र लिखकर बैंक कम्रचारियों को टीकाकरण की प्राथमिकता वाली सूची में शामिल करने का अनुरोध किया था।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: