Monday, 1 March 2021

उत्तराखंड सरकार की पहल, हर प्राइमरी स्कूल में तैनात होंगे पांच-पांच अध्यापक

देहरादून। राज्य सरकार गांवों में कम छात्र संख्या वाले स्कूलों की हालत सुधारने पर जोर दे रही है। ऐसे स्कूलों को मर्ज कर वहां 5-5 शिक्षकों की तैनाती की जाएगी।  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है  कि स्कूलों में छात्रों के आने-जाने के लिए वाहन की व्यवस्था भी होगी। उन्होंने द्वाराहाट डिग्री कॉलेज में एमएससी संचालित करने पर अपनी सहमति दी।

वहीं दूसरी ओर, राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उत्तराखंड से जुड़े दून के कार्यकर्ताओं की बैठक में कैबिनेट मंत्री और शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने कहा कि शिक्षकों की समस्याओं का समाधान जल्द होगा। वहीं उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन से शिक्षा क्षेत्र में व्यापक बदलाव की बात कही। 

महासंघ के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री ओमपाल सिंह ने संगठन की नीति की चर्चा की और संगठन विस्तार पर बल दिया। कहा कि कार्यकर्ता प्रमाणिक, अनुशासित, समय देने वाला, मृदुभाषी, सामंजस्य बनाने वाला, समाज को दिशा देने वाला आत्म विश्वास से परिपूर्ण होना चाहिए। 

क्योंकि शिक्षक समाज परिवर्तन के लिए है। प्रदेश महामंत्री डॉ अनिल नौटियाल ने विस्तार से सरकार द्वारा शिक्षा सुधार के लिए उठाये गए सकारात्मक -रचनात्मक कार्यों को विस्तार से बताया। 

महासंघ की महिला संवर्ग की अध्यक्षा डॉ. रश्मि रावत ने संगठन में महिलाओं की सहभागिता और निर्णय प्रक्रिया में भागीदारी पर बात का महिला शिक्षिकाओं को संगठन से जोड़ने पर बल दिया।

कार्यकारी अध्यक्ष डॉ प्रशांत सिंह ने शिक्षकों की समस्याओं और सेवा शर्तों पर वार्ता कर सरकार को समाधान के लिए सुझाव देने की बात कही। 

संयोजक डॉ हरनाम सिंह, देहरादून इकाई की महामंत्री डॉ पारुल दीक्षित, गढ़वाल संभाग के अध्यक्ष प्रो. एचसी पुरोहित, प्रदेश मंत्री डॉ. अलका सूरी, डॉ. सुषमा राना, डॉ. ऋचा कम्बोज, महेंद्र सिंह नेगी, लक्ष्मण सिंह रावत, डॉ. हरि ओम शंकर, डॉ. संदीप नेगी, डॉ. सुमंगल सिंह, डॉ. एमके पुरोहित, डॉ. रूपेश त्यागी आदि मौजूद रहे।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: