Friday, 26 February 2021

कुम्भ अथवा मीन लग्न वालों के बारहवें भाव में स्थित शुक्र नहीं होता योगप्रद, लेकिन...

शुक्र एक भोग-विलास का ग्रह है और उधर द्वादश भाव भी भोग-विलास का भाव है। इसलिए साधारणतया शुक्र जब भी द्वादश भाव में स्थित होता है, भोग-विलास व धनादि देता है।

लेकिन यहाँ ध्यान रखना चाहिए कि द्वादश भाव में शनि की राशि में शुक्र न स्थित हो। चूँकि शनि नैसर्गिक रूप से अभाव और निर्धनता का ग्रह है, इसलिए शुक्र के वहाँ स्थित होने पर वह शनि के गुणों से प्रभावित होकर शुभ फलों में न्यूनता ला देता है।

ऐसा कुम्भ और मीन लग्न में ही संभव हो पाता है क्योंकि जब लग्न कुम्भ होगा तो बारहवें भाव में शनि की मकर राशि पड़ेगी और जब लग्न मीन होगा तो बारहवें भाव में शनि की मूलत्रिकोण राशि कुम्भ पड़ेगी। इस कारण इन दो लग्नों के द्वादश भाव में स्थित शुक्र को बहुत शुभ नहीं माना गया है।

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: