यहां लड़कियां पुरुषों के साथ सोती तो हैं लेकिन रहती नहीं,वजह जानकर दिमाग चकरा जाएगा

हमारे समाज में शादी को जीवन का अहम हिस्सा माना जाता है। जहां भारत में धारा 377, 497 को लेकर चर्चाओं का दौर गर्म है। तो वहीं आज हम आपको बता रहे हैं दुनिया की ऐसी जगह जहां लोग बिना शादी किए ही अपने साथी के साथ पूरा जीवन बिताते हैं। अपने पड़ोसी दक्षिण-पश्चिम चीन में मूसो जाति के लोगों का साथी चुनने का तरीका समाज में बिलकुल ही अलग है, यहां के लोग शादी नहीं बल्कि ‘वॉकिंग मैरिज’ करते हैं।
वॉकिंग मैरिज एक ऐसी शादी होती है जिसमें दोनों में से कोई साथी रिश्ते से बाहर जा सकता है।इस शादी में महिला मुख्य किरदार निभाती है। ये मूसो जाति का समाज भी नारी प्रधान माना जाता है। पुरुष को चुनने और अहम फैसले लेने तक का अधिकार महिलाओं के पास रहता है। यही नहीं महिला एक से ज्यादा साथी चुनने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र होती है।
मूसो जाति के पुरुष महिलाओं के साथ नहीं रहते। वे पूरे दिन फिशिंग, शिकार और दूसरे कामों में व्यस्त रहते हैं। केवल रात को अपनी साथी के पास सोने के लिए जाते हैं। मूसो समाज की सबसे खास बात यह है कि यहां 13 साल की लड़की को किसी भी पुरुष से प्रेम करने का अधिकार मिल जाता है।
लड़की के बालिग होने के बाद उसे अपना अलग कमरा दे दिया जाता है, जहां वह अपनी पसंद के लड़के के साथ वक्त बिता सकती है। इस रिश्ते में पुरुष महिला की किसी तरह की आर्थिक सहायता नहीं करता, बच्चे होने पर भी उसकी पूरी जिम्मेदारी मां और उसके घर वालों पर ही रहती है।
इस रिश्ते की नींव शादी या किसी तरह की औपचारिकता पर नहीं टिकी होती। ये लोग मर्जी से पूरा जीवन साथ बिता सकते हैं या अपना साथी बदल भी सकते हैं। जानने में जितना अजीब ये रिश्ता लग रहा है उतना है नहीं। यहां ज्यादातर लोग अपने साथी के लिए बहुत ही वफादार होते हैं। शादी जैसे किसी बंधन के बिना भी वो निस्वार्थ प्रेम करते हैं। जरूरी नहीं है कि मां को पता हो कि उसका पिता कौन है, यहां इस बात को तूल नहीं दिया जाता।
दक्षिण-पश्चिम चीन का ये इलाका पर्यटन का खास केंद्र माना जाता है। झील के किनारे लोगों ने कच्चे घर बना लिए हैं, जहां बाहर से आने वाले सैलानी रह सकते हैं। ये मूसो जाति के आदिवासी पारंपरिक डांस कर लोगों का मनोरंजन भी करते हैं। कई लोग महज इन औरतों को देखने ही यहां आते हैं। 

Post a Comment

0 Comments