Wednesday, 16 June 2021

आगरा और मथुरा के लिए 395 परियोजनाओं का उपमुख्यमंत्री ने किया शिलान्यास

आगरा। सूबे के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य बुधवार को सर्किट हाउस पहुँचे। जहां उन्होंने आगरा और मथुरा के लिए करीब 400 करोड़ रुपए से अधिक लागत की 395 परियोजनाओं का बटन दबाकर शिलान्यास किया।

इन परियोजनाओं में अधिकतम ग्रामीण क्षेत्र शामिल हैं। उपमुख्यमंत्री ने सबसे पहले कोरोना महामारी में मृत्यु प्राप्त होने वाले लोगों के लिए संवेदना प्रकट की। साथ ही जनता से कोरोना गाइडलाइंस के पालन करने की अपील भी की।

इन परियोजनाओं से ग्रामीणों को काफ़ी सुविधा होगी। सभी गांव को भविष्य में नेशनल हाइवे से जोड़ने का हमारा प्रयास रहेगा।

चुनावों पर बोले उपमुख्यमंत्री
आगामी विधानसभा चुनावों में हम आने कार्य काल मे किये गए कार्यों को लेकर जनता से वोट मागेंगे। हमारी पार्टी 2022 में 300 से भी अधिक सीटें जीत कर सरकार बनाएगी।

संवाद: दानिश उमरी

किसानों से गेहूं खरीद की अंतिम तिथि 15 जून से बढ़ाकर की जाए 30 जून: विधायक रानी पक्षालिका सिंह

आगरा। उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता राजा अरिदमन सिंह ने गेहूं खरीद केंद्रों की जांच कराए जाने और वहां से बिचौलियों को हटाए जाने की मांग करते हुए भदावर हाउस से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि गेहूं खरीद केंद्रों पर अनियमितताओं के संबंध में निरंतर शिकायतें मिल रही हैं। वहां सही तरीके से किसानों का गेहूं नहीं खरीदा गया है। जिन लोगों का रजिस्ट्रेशन पहले हो गया था, उनका भी गेहूं नहीं लिया गया है।

राजा अरिदमन सिंह का कहना है कि मार्केट रेट से ₹300 ज्यादा मिनिमम सपोर्ट प्राइस होने के कारण बिचौलिए सक्रिय हो गए हैं। इससे सच्चे किसान अपना गेहूं बेचने से वंचित रह गए हैं।

उन्होंने इस पूरे प्रकरण की बारीकी से जांच कराए जाने की मांग की है ताकि यह स्पष्ट हो सके कि किसान अपना गेहूं बेचने से क्यों वंचित रह गए और बिचौलिए क्यों हावी हो गये।

वहीं विधायक रानी पक्षालिका सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से मांग की है कि गेहूं खरीद केंद्रों पर गेहूं खरीद की तिथि 15 जून से बढ़ाकर 30 जून की जाए ताकि जैनुइन किसानों का गेहूं खरीदा जा सके।
संवाद: दानिश उमरी

सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने कोरोना से निपटने को खोला खजाना

बांदा-डीवीएनए। कोरोना के कहर से मुकाबले के लिए सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी की कर्तव्य शीलता का उदाहरण देखकर कबीरा का भी मन मजबूरी में उछाले सा मारने लगा । इसी क्रम में नरैनी विधायक राजकरण ने भी कुछ रुपया देकर अपनी ढपली बजाई है । सदर व नरैनी विधायक ने स्वास्थ्य विभाग को उपकरणों की व्यवस्था के लिए 35 लाख रुपये की धनराशि अवमुक्त की है। आपकों बता दू कि नरैनी विधायक ने कोरोना महामारी के लिए निधि से रुपया देने के लिये लंबे समय चुप्पी साध रखी थी। लेकिन जब पार्टी का इस संदर्भ में डंडा घुसा तो कबीरा राग अलापने के लिये मजबूर हो गये।
नए वित्तीय वर्ष के शुरुआत में कोरोना संक्रमण का जमकर शोर रहा । कोरोना की दूसरी लहर में रोजाना सौ से डेढ़ सौ के बीच संक्रमित मिल रहे थे। ऐसी स्थिति में कई जगह उपकरणों व व्यवस्थाओं की कमी भी हुई थी। सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने व्यवस्थाओं का जायजा लिया था। विभागीय अधिकारियों ने जनप्रतिनिधियों से मदद की गुजारिश की थी। इसमें सदर विधायक ने मामले को गंभीरता से लेते हुए स्वास्थ्य विभाग के खाते में अपनी निधि से 25 लाख रुपये की धनराशि दी। नरैनी विधायक ने देखा-देखी कहारतें हुए दस लाख रुपये उपलब्ध कराए। जिसमें आक्सीजन जनरेशन प्लांट का जनरेटर, 20 आक्सीजन कंसंट्रेटर, मास्क, पीपी किट व सैनिटाइजर आदि की खरीद होगी । सदर विधायक का उद्देश्य है कि मरीजों के उपचार व कोरोना योद्धाओं को संक्रमण से बचाव में किसी तरह की कमी न रहे। जेनरेटर की उपलब्धता रहै। इससे निर्बाध आक्सीजन की उपलब्धता से मरीजों की जान बचाई जा सके।
सीएमओ एनडी शर्मा ने बताया कि धनराशि खाते में आ चुकी है। जिससे उपकरणों को मंगवाने के लिए आर्डर भेजा है। लेकिन इसकी उपलब्धता की तिथि अभी अंधेरे में है।
संवाद विनोद मिश्रा

इश्क की खूनी दास्तान: शादीशुदा महिला की मोहब्बत में युवक ने खून से रंग लिए हाथ

काशीपुर। चार बच्चों की मां के इश्क में एक युवक ऐसा फंसा कि हत्या करने के जघन्य अपराध तक की वारदात को अंजाम देने से भी नहीं चूका। उसके प्यार के बीच में आने वाले पति के बड़े भाई को मौत के घाट उतार दिया।

जी हां इश्क की खूनी दास्तान लिखने वाला ये मामला काशीपुर के कुंडा थाना क्षेत्र का है। जहां विवाहिता से इश्क लड़ा बैठे एक युवक ने अपने प्यार को पाने की चाह में अपने हाथ खून से रंग दिये।

प्यार अंधा होता है मगर क्या इतना अंधा कि खून से इश्क की इबारत लिख दी और नतीजा जेल की कोठरी मिली। कुंडा थाना क्षेत्र में एक युवक का चार बच्चों की मां के साथ इश्क लड़ा बैठा, धीरे धीरे इश्क परवान चढ़ने लगा और दोनों ही एक दूसरे से कसमे वादे निभाने लगे।

लेकिन लॉकडाउन में मजबूर ये दोनों प्रेमी छटपटाने लगे, सिर्फ फोन पर ही एक दूसरे से सम्पर्क में थे, तभी दोनों ने मिलकर घर से भागने की प्लानिंग कर ली, दोनों घर से भाग भी गये थे लेकिन मुरादाबाद में पकड़े जाने पर दोनों वापस लौट आये।

लौटने के बाद परिवार में हुई जिल्लत और मारपीट महिला बर्दास्त नहीं कर पाई और बदला लेने के लिए प्रेमी को उकसा बैठी। दरअसल महिला के पति का बड़ा भाई दोनों के इश्क में बाधा डाल रहा था। तो प्रेमी का सहारा लेकर महिला ने पति के बड़े भाई की हत्या की साजिश रच डाली और अपने प्यार की चाह में रास्ते के कांटे को हटाने प्रेमी के हाथ खून से रंग दिये।

वहीं घटना के बाद परिजनों ने थाने में महिला और उसके प्रेमी के खिलाफ तहरीर देकर हत्या की आशंका जतायी थी। जिसपर पुलिस ने जांच में इस बात की पुष्टि करते हुए दोनों प्रेमियों को गिरफ्तार कर लिया और जेल भेज दिया है।

अज़हर मलिक

भारत में 70 दिनों बाद कोविड के सक्रिय मामले नौ लाख से नीचे

नई दिल्ली। भारत में लगातार दैनिक नये मामलों में कमी दर्ज की जा रही है। देश भर में पिछले 24 घंटों के दौरान 62,224 दैनिक नये मामले दर्ज किये गये। आज नौवें दिन लगातार नये मामले रोजाना के हिसाब से एक लाख के नीचे रहे। यह केंद्र और राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के समवेत प्रयासों का नतीजा है।

भारत में सक्रिय मामलों में लगातार गिरावट भी देखी जा रही है। देश में आज सक्रिय मामलों की संख्‍या 8,65,432 रही। 70 दिनों बाद कोविड मामले नौ लाख से नीचे पहुंचे हैं।

पिछले 24 घंटों के दौरान सक्रिय मामलों में कुल 47,946 की कमी देखी गई। देश के कुल पॉजिटिव मामलों में सक्रिय मामले अब महज 2.92 प्रतिशत हैं।

कोविड-19 से ज्यादा से ज्यादा लोग उबर रहे हैं, जिसके आधार पर लगातार 34वें दिननये मामलों की तुलना में रोजाना स्वस्थ होने वाले लोगों की तादादज्यादा बनी रही। पिछले 24 घंटों के दौरान 1,07,628 मरीज स्वस्थ हुये।

पिछले 24 घंटों में दैनिक नये मामलों के मुकाबले 45 हजार (45,404) से अधिक रिकवरी दर्ज की गई।

महामारी की शुरुआत से संक्रमित होने वाले लोगों में से कोविड-19 से 2,83,88,100 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। पिछले 24 घंटों में 1,07,628 लोग स्वस्थ हुये। इस तरह रिकवरी दर 95.80 प्रतिशत बैठती है, जिसमें बढ़ोतरी का रुझान देखा जा रहा है।

देश में जांच क्षमता में उल्लेखनीय इजाफा किया गया है, जिसके आधार पर देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कुल 19,30,987 जांचें की गईं। अब तक भारत में कुल मिलाकर 38.33 करोड़ (38,33,06,971) से अधिक जांचें हो चुकी हैं।

एक तरफ देश में जांच क्षमता बढ़ाई गई, तो दूसरी तरफ साप्ताहिक पॉजिटिव दर में लगातार कमी भी देखी गई। मौजूदा समय में साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर 4.17 प्रतिशत है, जबकि दैनिक पॉजिटिविटी दर आज 3.22 प्रतिशत रही। यह लगातार नौवें दिन पांच प्रतिशत से कम पर बरकरार रही।

भारत ने कल 26 करोड़ टीकाकरण कवरेज का आंकड़ा पार कर लिया। आज सात बजे सुबह तक मिली रिपोर्ट के अनुसार 36,17,099 सत्रों के जरिये वैक्सीन की कुल 26,19,72,014 खुराकें लगाई गईं। पिछले 24 घंटों में 28,00,458 खुराकें लगाई गईं।

PM मोदी आज विवा टेक आयोजन में देंगे मुख्य भाषण

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 जून को शाम लगभग 4 बजे 5वें विवा टेक आयोजन में मुख्य भाषण देंगे। प्रधानमंत्री को विवा टेक 2021में मुख्य भाषण देने के लिए सम्मानित अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है।

आयोजन के अन्य प्रमुख वक्ताओं में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों, स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज और विभिन्न यूरोपीय देशों के मंत्री/सांसद शामिल हैं। इस कार्यक्रम में एप्पल के सीईओ टिम कुक, फेसबुक के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग, और माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ जैसे कॉरपोरेट नेताओं की भागीदारी भी होगी।

विवा टेक यूरोप में सबसे बड़ी डिजिटल और स्टार्टअप आयोजनों में एक है। इसका आयोजन 2016 के बाद से हर वर्ष पेरिस में किया जाता है। इसका आयोजन संयुक्त रूप एक प्रमुख विज्ञापन और विपणन समूह पब्लिसिज ग्रुप और अग्रणी फ्रांसीसी मीडिया समूहलेस इकोसद्वारा किया जाता है। यह प्रौद्योगिकी नवाचार और स्टार्टअप इकोसिस्टम के हितधारकों को एक साथ लाता है। इस आयोजन में प्रदर्शनियां, पुरस्कार, पैनल चर्चा और स्टार्टअप प्रतियोगिताएं शामिल की जाती हैं।विवाटेक का 5वां संस्करण 16-19 जून 2021 को आयोजित किया जाना है।

चिराग पासवान के बागी चचेरे भाई और सांसद प्रिंस राज की मुश्किलें बढ़ी, यौन शोषण के मामले में FIR दर्ज
चिराग पासवान के बागी चचेरे भाई और सांसद प्रिंस राज की मुश्किलें बढ़ी, यौन शोषण के मामले में FIR दर्ज

पटना (डीवीएनए)। बिहार की लोक जनशक्ति पार्टी में सियासी वर्चस्व की लड़ाई के बीच एक नया मोड़ आ गया है। समस्तीपुर से सांसद व चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज पर एक लड़की ने कथित तौर पर यौन शोषण के गंभीर आरोप लगाए हैं। लड़की ने प्रिंस राज पर शादी का झांसा देकर रेप करने का आरोप लगाया है। लड़की ने इस मामले में पुलिस थानें पर तीन पेज की लिखित शिकायत दी है। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने यौन शोषण के मामले में प्रिंस के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। प्रिंस के खिलाफ नई दिल्ली के कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन में एक लड़की ने शिकायत दर्ज करवाई है। लड़की का आरोप है कि प्रिंस पासवान ने पानी में नशीला पदार्थ मिलाने के बाद उनके साथ रेप किया। लड़की ने आरोप लगाया है कि पानी पीते ही वह बेहोश हो गईं और उसके साथ बेहोशी की हालत में रेप किया गया। 15 जून को पीडि़ता ने तीन पन्नों में विस्तार से आपबीती बताते हुए दिल्ली पुलिस के समक्ष अपनी शिकायत दर्ज करवाई है।
प्रिंस के खिलाफ नई दिल्ली के कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन में एक लड़की ने शिकायत दर्ज करवाई है। लड़की का आरोप है कि प्रिंस पासवान ने पानी में नशीला पदार्थ मिलाने के बाद उनके साथ रेप किया। लड़की ने आरोप लगाया है कि पानी पीते ही वह बेहोश हो गईं और उसके साथ बेहोशी की हालत में रेप किया गया। 15 जून को पीडि़ता ने तीन पन्नों में विस्तार से आपबीती बताते हुए दिल्ली पुलिस के समक्ष अपनी शिकायत दर्ज करवाई है।
दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि अभी शिकायत मिली है। मामले की जांच जारी है। प्रिंस राज चिराग पासवान के दिवंगत चाचा रामचंद्र पासवान के पुत्र हैं। रामचंद्र पासवान के निधन के बाद खाली हुई समस्तीपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर प्रिंस राज सांसद बने हैं। हरेशा चिराग पासवान के साथ दिखने वाले प्रिंस फिलहाल उनके विरोध में हैं, जबकि उनको चुनाव में जीत दिलाने के लिए चिराग पासवान ने ही उनके चुनाव अभियान की कमान संभाली थी।
लोजपा में विरोध का सामना कर रहे चिराग पासवान ने दोपहर ट्विटर पर एक चिऋी शेयर कर अपने चचेरे भाई और सांसद प्रिंस राज से जुड़े एक मामले का जिक्र किया था, जिसमें एक महिला ने उन पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। चिराग ने अपनी चिऋी में लिखा था कि बड़ा भाई होने के नाते उन्होंने प्रिंस को पुलिस के पास जाने की सलाह दी थी ताकि झूठ और सच का पता चल सके और दोषी को दंड मिले। चिराग ने इस चिऋी क जरिये यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि इतने महत्वपूर्ण मुद्दे पर भी बागी हुए चाचा पशुपति पारस ने कोई सलाह नहीं दी और कन्नी काट गए, जबकि यह मुद्दा पार्टी के साथ परिवार की भी प्रतिष्ठा से जुड़ा था।