दुनिया भर में डिजिटल प्रौद्योगिकी का विस्तार करने की आवश्यकता: पीएम मोदी

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बाली में जी20 शिखर सम्मेलन में डिजिटल परिवर्तन पर एक सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि गरीबी के खिलाफ दशकों से चली आ रही वैश्विक लड़ाई में डिजिटल प्रौद्योगिकियों का उचित उपयोग बेहद लाभदायक हो सकता है।

दुनिया भर में डिजिटल प्रौद्योगिकी के लाभों के विस्तार की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए, मोदी ने कहा कि 1 दिसंबर से शुरू होने वाले जी20 की भारत की अध्यक्षता के दौरान इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए जी20 भागीदारों के साथ संयुक्त रूप से काम करेगा।

कोविड-19 महामारी के दौरान डिजिटल तकनीक के लाभों का हवाला देते हुए, मोदी ने कहा, डिजिटल समाधान जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में भी मददगार हो सकते हैं, जैसा कि हम सभी ने कोविड के दौरान रिमोट-वकिर्ंग और पेपरलेस ग्रीन ऑफिस के उदाहरणों में देखा।

लेकिन इन लाभों को तभी महसूस किया जाएगा, जब डिजिटल पहुंच वास्तव में समावेशी होगी और जब डिजिटल तकनीक का उपयोग वास्तव में व्यापक होगा।

हालांकि उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना सभी जी20 नेताओं की जिम्मेदारी है कि डिजिटल परिवर्तन के लाभ मानव जाति के एक छोटे से हिस्से तक ही सीमित नहीं होने चाहिए।

प्रधानमंत्री ने डिजिटल आर्किटेक्चर को समावेशी बनाने के पिछले कुछ वर्षों के भारत के अनुभव को साझा किया।

मोदी ने विश्व नेताओं की सभा को संबोधित करते हुए कहा, डिजिटल उपयोग बड़े पैमाने पर गति ला सकता है। शासन में पारदर्शिता लाई जा सकती है। भारत ने डिजिटल सार्वजनिक सामान विकसित किया है, जिसकी बुनियादी संरचना में अंतर्निहित लोकतांत्रिक सिद्धांत हैं।

उन्होंने आगे कहा कि भारत ने डिजिटल पहुंच को सार्वजनिक कर दिया है, लेकिन ध्यान दिया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभी भी एक बड़ा डिजिटल विभाजन है, दुनिया के अधिकांश विकासशील देशों के नागरिकों के पास किसी भी तरह की डिजिटल पहचान नहीं है।

पीएम मोदी ने कहा, सिर्फ 50 देशों में डिजिटल भुगतान प्रणाली है। क्या हम मिलकर संकल्प ले सकते हैं कि अगले 10 वर्षों में हम हर इंसान के जीवन में डिजिटल परिवर्तन लाएंगे, ताकि दुनिया का कोई भी व्यक्ति डिजिटल तकनीक के लाभ से वंचित न रहे।

Post a Comment

0 Comments