सेमीफाइनल से पहले रोहित शर्मा को लगी चोट

एडिलेड | भारतीय टीम का वैकल्पिक अभ्यास सत्र एक सामान्य दिन से व्यस्त दिन में तब्दील हो गया जब कप्तान रोहित शर्मा बल्लेबाजी के दौरान चोटिल हो गए। थ्रोडाउन का सामना करते हुए गेंद उनके हाथ पर जा लगी। रोहित दर्द में नजर आ रहे थे, उन्होंने बाहर जाकर उपचार करवाया और फिर अंत में अभ्यास के साथ सत्र का अंत किया।

भारतीय बल्लेबाजों को अतिरिक्त गति के विरुद्ध खेलने में सहज होने के लिए थ्रोडाउन का सामना करना पसंद है। वे इन थ्रोडाउन को उच्च गति के खिलाफ अपने प्रतिक्रिया समय (रिएक्शन टाइम) में सुधार करने का श्रेय देते हैं। हालांकि, यह विशेष गेंद पड़कर अंदर की ओर आई और रोहित के दाहिने हाथ पर जा लगी।

रोहित की पहली प्रतिक्रिया से ऐसा लगा कि यह चोट काफी गंभीर थी। वह दर्द में नजर आ रहे थे और उन्हें तत्काल चिकित्सा दी गई। लगभग पांच मिनट बाद उन्होंने ग्लव पहनकर देखा कि उनका हाथ कितना सहज महसूस कर रहा है। हालांकि वह एक गेंद खेलकर बाहर चले गए।

रोहित हाथ पर एक बड़ा आइसपैक लेकर बैठे थे। मानसिक कंडीशनिंग कोच पैडी अप्टन ने उनसे लंबी बातचीत की और इस दौरान थ्रोडाउन विशेषज्ञ डी राघवेंद्र परेशान दिखे। हालांकि करीब 45 मिनट बाद रोहित नेट्स में वापस चले गए। उन्होंने ध्यान से शुरूआत की और फिर सहजता के साथ बल्लेबाजी की।

सत्र के अंत में रोहित ने राघवेंद्र के साथ भी बातचीत की। इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल से पहले एक और अभ्यास सत्र के साथ रोहित को लेकर चिंता कम है।

एक और दिलचस्प बात दिनेश कार्तिक की बल्लेबाजी थी। दल के अन्य सदस्यों में कार्तिक और हार्दिक पांड्या ने ही इस सत्र में हिस्सा लिया।

कार्तिक भारत के अंतिम लीग मैच का हिस्सा नहीं थे क्योंकि भारत ऋषभ पंत को क्रीज पर समय बिताने का अवसर देना चाहता था। टूर्नामेंट में बची हुई टीमों के स्पिनरों को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया। शादाब खान, मोहम्मद नवाज, मिचेल सैंटनर, ईश सोढ़ी और आदिल रशीद दाएं हाथ के बल्लेबाजों से गेंद को दूर लेकर जाते हैं। इसलिए पंत को तैयार किया जा रहा है। इससे पहले भारत ने स्पिनरों के विरुद्ध मध्य क्रम में अक्षर पटेल का इस्तेमाल किया था।

अगर भारत पंत के साथ जाता है तो हार्दिक को छठे नंबर पर भेजा जाएगा। फिलहाल केवल कार्तिक ही ऐसे विशेषज्ञ बल्लेबाज हैं जो आने के साथ ही तेज गति से रन बना सकते हैं। हार्दिक मुंबई इंडियंस के लिए यह भूमिका निभा चुके हैं लेकिन इस साल उन्होंने अपना समय लेने के बाद प्रहार करना शुरू किया है।

सेमीफाइनल में भारत का सामना मोईन अली के रूप में ऑफ स्पिनर से होगा। यहां कार्तिक का पलड़ा भारी हो सकता है। टीम प्रबंधन ने कहा था कि भले ही पंत ने पिछला मैच खेला, इसका अर्थ यह नहीं है कि कार्तिक टीम से बाहर हो गए हैं। कार्तिक के अभ्यास से ऐसा लग रहा है कि वह इंग्लैंड के विरुद्ध खेलने के लिए तैयार हैं।

पिछले मैच के बाद प्रमुख कोच राहुल द्रविड़ ने कहा था कि भविष्य को ध्यान में रखते हुए टीम को बदलाव करने का मौका मिला। उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि चयन के लिए सब उपलब्ध हैं। सिर्फ़ इसलिए कि कोई इस मैच में नहीं खेला इसका मतलब यह नहीं है कि हम उसके पास वापस नहीं जा सकते हैं।"

Post a Comment

0 Comments