2 साल से बंद पर्वतीय रुट की बस सेवाएं दोबारा होंगी संचालित,यह होगा बसों का रूट

देहरादून : कोरोना संकट के चलते पिछले दो साल स्थगित चल रही बस सेवाओं के पुन: संचालन पर विचार विमर्श किया।  2 साल से बंद पर्वतीय रुट की 3 बस सेवाएं 15 नवंबर से दोबारा संचालित होंगी। लोकल रोटेशन की वार्षिक बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया। इन बस सेवाओं का लाभ देहरादून और ऋषिकेश से पहाड़ जाने वाली सवारियों को मिलेगा।सोमवार को देहरादून रोड स्थित यातायात पर्यटन एवं सहकारी संघ के कार्यालय में लोकल रोटेशन की वार्षिक बैठक हुई, जिसमें पहाड़ के लोकल रुट पर चलने वाली बस सेवाओं पर चर्चा की गई।

टीजीएमओयू अध्यक्ष जितेंद्र सिंह नेगी और सहकारी संघ के अध्यक्ष मनोज ध्यानी, उपाध्यक्ष नवीन रमोला ने बंद पड़ी बस सेवाओं को दोबारा संचालित करने पर समर्थन किया। जिस पर सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि 15 नवंबर से पिछले दो साल से बंद पड़ी 3 बस सेवाओं को शुरू किया जाएगा।

जल्द इनकी समय सारणी निर्धारित कर दी जाएगी। ताकि सवारियों को गंतव्य तक पहुंचने में दिक्कत न हो। मौके पर यातायात पर्यटन एवं सहकारी संघ पूर्व अध्यक्ष भोला दत्त जोशी, दाताराम रतूड़ी, हरीश नौटियाल, गजपाल रावत, मनोहर रौतेला, बलवीर सिंह रौतेला, जसपाल रौतेला, संजय आर्य, प्रेमपाल बिष्ट, डीएस पयाल आदि मौजूद रहे।

यह बस सेवाएं होंगी शुरु
कोरोना संकट से प्रभावित लोकल रोटेशन की तीन बस सेवाएं ऋषिकेश से खंडोगी, पौड़ीखाल वाया प्रतापनगर और देहरादून से ऋषिकेश होते हुए गराकोट चलेगी, जो बीते दो साल से बंद चल रही हैं।

प्रेमपाल बिष्ट बने रोटेशन अध्यक्ष
टिहरी गढ़वाल मोटर्स ऑनर्स और यातायात पर्यटन एवं सहकारी संघ के लोकल रोटेशन के वार्षिक बैठक में प्रेमपाल सिंह बिष्ट को सर्वसम्मति से रोटेशन का अध्यक्ष चुना गया। परिवहन कंपनियों के पदाधिकारियों ने नवनियुक्त अध्यक्ष का स्वागत किया। 
निवर्तमान अध्यक्ष हरीश नौटियाल के कार्यकाल की सराहना की गई।
 

Post a Comment

0 Comments