मेरा लक्ष्य एशियन खेलों में देश के लिए पदक जीतना : प्रणय शर्मा

मेरा लक्ष्य एशियन खेलों में देश के लिए पदक जीतना : प्रणय शर्मा


मेरा लक्ष्य एशियन खेलों में देश के लिए पदक जीतना : प्रणय शर्मा


बेंगलुरू, 2 मई (हि.स.)। पुरुष कुमाइट (-67 किग्रा वर्ग) में विश्व के 60वें नंबर और भारत के नंबर एक कराटे खिलाड़ी प्रणय शर्मा ने कहा है कि उनका लक्ष्य एशियन खेलों में देश के लिए पदक जीतना है।

बेंगलुरु में खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स 2021 (केआईयूजी) में डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व कर रहे थाईलैंड ओपन गोल्ड मेडलिस्ट और यूएसए ओपन ब्रॉन्ज मेडलिस्ट शर्मा की नजर केआईयूजी गोल्ड पर है, लेकिन उनके पास अपने लिए और भी बड़े सपने हैं।

उन्होंने कहा, केआईयूजी के बाद मेरा तात्कालिक लक्ष्य एशियाई खेलों में अपने देश के लिए पदक जीतना है। मुझे लगता है कि मैं भारत के लिए एक पदक जीत सकता हूं और हमारे देश में कराटे के खेल को और भी आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता हूं। एशियाई खेल एक शीर्ष स्तर की प्रतियोगिता है और वहां पदक से बढ़कर कुछ नहीं है।

यह पूछे जाने पर कि उन्होंने कराटे में अपनी शुरुआत कैसे की, उन्होंने कहा, मेरे पिता भी कराटे खिलाड़ी थे। वह राष्ट्रीय स्तर पर खेले और उन्होंने हमेशा मुझे प्रेरित किया और मुझे आगे बढ़ाया। पहले मुझे उनके बच्चे के रूप में जाना जाता था और अब मेरी उपलब्धियों के कारण, उन्हें मेरे पिता के रूप में जाना जाता है, इसलिए यह मेरे लिए एक बड़ी उपलब्धि है।

शर्मा केआईयूजी 2021 के फाइनल में चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के वैभव वालिया के साथ मुकाबले करेंगे। वैभव से मुकाबले को लेकर शर्मा ने कहा, मैं वास्तव में अच्छा महसूस कर रहा हूं कि मैं फाइनल में हूं, लेकिन मैं स्वर्ण जीतने की पूरी कोशिश करूंगा। अगर मैं स्वर्ण जीतता हूं तो मेरे माता-पिता होंगे जो मुझसे ज्यादा खुश हैं। उन्होंने मेरी बहुत मदद की है और मैं उनके बिना कुछ भी नहीं हूं। मेरे पिता बहुत खुश होंगे क्योंकि वह मुझे टीवी पर गोल्ड जीतते देखेंगे।

बता दें कि प्रणय शर्मा और वैभव वालिया के बीच आज 75 किग्रा व्यक्तिगत कुमाइट वर्ग का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

Post a Comment

0 Comments