सेना में शामिल किए जाएंगे इलेक्ट्रिक वाहन, रक्षा मंत्री और जनरल नरवणे ने देखा प्रदर्शन

सेना में शामिल किए जाएंगे इलेक्ट्रिक वाहन, रक्षा मंत्री और जनरल नरवणे ने देखा प्रदर्शन


सेना में शामिल किए जाएंगे इलेक्ट्रिक वाहन, रक्षा मंत्री और जनरल नरवणे ने देखा प्रदर्शन


- सेना के बोर्ड की सिफारिश पर खरीदी जाएंगी इलेक्ट्रिक कार, बस तथा मोटरसाइकिल

- सरकार ने चार्जिंग स्टेशनों की स्थापना के लिए लाइसेंस लेने की आवश्यकता समाप्त की

नई दिल्ली, 22 अप्रैल (हि.स.)। भारतीय सेना ने अपने वाहनों के बेड़े में इलेक्ट्रिक वाहन शामिल करने का फैसला लिया है। सेना में इलेक्ट्रिक वाहनों को शामिल करने के लिए अधिकारियों के बोर्ड ने अपनी अनुशंसाओं को अंतिम रूप दे दिया है। इसी आधार पर भारतीय सेना तीन श्रेणियों यानी कारों, बसों तथा मोटर साइकिलों में इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने की योजना बना रही है। इलेक्ट्रिक वाहन के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने चार्जिंग स्टेशनों की स्थापना के लिए लाइसेंस लेने की आवश्यकता समाप्त कर दी है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे तथा भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष शुक्रवार को नई दिल्ली में टाटा मोटर्स, परफेक्ट मेटल इंडस्ट्रीज (पीएमआई) तथा रिवोल्ट मोटर्स कंपनी ने अपने-अपने इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) का प्रदर्शन किया। इलेक्ट्रिक वाहन विनिर्माताओं ने पिछले कुछ वर्षों के दौरान हासिल की गई इलेक्ट्रिक वाहनों की प्रौद्योगिकी तथा इनका प्रचलन बढ़ने के बारे में जानकारी दी।

रक्षा मंत्री ने इलेक्ट्रिक वाहनों को भारतीय सेना में शामिल करने तथा सरकार की नीतियों के अनुरूप जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता घटाने की पहल को सराहा। उन्होंने कहा कि फेम I तथा II की सरकारी नीति ने भारत में इलेक्ट्रिक वाहन सिस्टम बनाये रखने के लिए बुनियादी ढांचे के विकास को भरपूर बढ़ावा दिया है। इलेक्ट्रिक वाहन के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने चार्जिंग स्टेशनों की स्थापना के लिए लाइसेंस लेने की आवश्यकता समाप्त कर दी है।

थल सेनाध्यक्ष जनरल एमएम नरवणे का मानना है कि परिवहन का भविष्य इलेक्ट्रिक वाहनों में निहित है तथा भारतीय सेना को इस मामले में पथप्रदर्शक बनना होगा। इस तकनीक को अपनाने में भारतीय सेना को भी अग्रणी भूमिका निभानी होगी, क्योंकि विश्व की सेनाएं भी इलेक्ट्रिक वाहनों को अपने बेड़े में शामिल करने पर विचार कर रही हैं। भारतीय सेना में इलेक्ट्रिक वाहनों को शामिल करने के लिए एक निश्चित समयबद्ध रूपरेखा तैयार करने के लिए आपूर्ति एवं परिवहन महानिदेशक (डीजीएसटी) लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार सिंह यादव के तहत अधिकारियों के एक बोर्ड का गठन पहले ही किया गया है।

अधिकारियों के बोर्ड ने अपनी अनुशंसाओं को अंतिम रूप दे दिया है और लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार सिंह यादव ने सेना कमांडरों की बैठक के दौरान इलेक्ट्रिक वाहनों को शामिल करने की योजना के बारे में सेनाध्यक्ष, सेना के कमांडरों तथा सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी दी। इसी आधार पर भारतीय सेना तीन श्रेणियों अर्थात कारों, बसों तथा मोटर साइकिलों में इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद करने की योजना बना रही है।

हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत निगम 

Post a Comment

0 Comments