अंधविश्वास : गाय की मौत पर चाचा-चाची ने भतीजे की कर दी नृशंस हत्या

राकेश पाण्डेय
सोनभद्र।
घोरावल के लक्ष्मणपुर गांव में उस वक्त हड़कम्प मंच गया जब जादू ,टोने के शक में देर रात लगभग 11 बजे चाचा ,चाची ने अपने भतीजे की फावड़े से मारकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद से दोनों मौके से फरार हो गए। 

इधर, इस सनसनीखेज घटना से गांव में हड़कंप की स्थिति है। वही पुलिस की इस घटना की सूचना रात दो बजे मिली मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज कर आगे की कार्यवाही में जुट गई।

जानकारी के अनुसार घोरावल कोतवाली क्षेत्र के लक्ष्मणपुर गांव निवासी पियारे, लक्ष्मण और राधे तीन भाई हैं। तीनों का परिवार अगल-बगल ही रहता है। करीब तीन दिन पहले लक्ष्मण कोल की गाय बीमार हो गई और बाद में मौत हो गई। अचानक गाय की मौत से सन्न परिवार ने एक ओझा से सम्पर्क किया तो उसने गाय पर जादू-टोना किए जाने की बात कही। भतीजे को घर के बाहर बुलाकर और ताबड़तोड़ वार कर दिया जिससे विनोद उम्र 30 वर्ष की मौके पर मौत हो गयी। वही हत्या के बाद चाचा, चाची मौके से फरार हो गए। आरोप है कि ओझा ने इसके लिए पड़ोस में रह रहे छोटे भाई राधे के पुत्र विनोद उम्र 35 वर्ष को जिम्मेदार बताया। 

विनोद के बड़े भाई मनोज के मुताबिक रविवार  रात करीब एक बजे लक्ष्मण और उसकी पत्नी बुधनी ने विनोद को घर के बाहर बुलाया। बाहर निकलते ही फावड़े से उसके सिर और गर्दन पर वार कर दिया। गंभीर चोट से विनोद मौके पर ही लहूलुहान होकर गिर पड़ा। चीख-पुकार सुनकर अन्य परिजन पहुंचे तो आरोपी चाचा-चाची फरार हो गए। विनोद को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

सोनभद्र एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि आरोपी चाचा लक्ष्मण और चाची बुधनी का अपने भतीजे से विवाद चल रहा था जिससे देर रात दोनो ने भतीजे विनोद को बुलाकर फावड़े से हमला कर मौत के घाट उतार दिया। परिजनों ने बताया कि गाय के मौत पर चाचा चाची को जादू टोने का शक भतीजे पर था इस वजह से फावड़े से वार कर हत्या की घटना को अंजाम दिया गया है। दोनो के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। दोनों आरोपियों की तलाश की जा रही है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

Post a Comment

0 Comments