मिसाल: मुस्लिम पुलिसकर्मी ने हिन्दू रीति-रिवाज़ से किया लावारिस शव का अंतिम संस्कार

अज़हर मलिक
देहरादून।
धर्म-जाति और सामाजिक बंधनों से बड़ी है मानवता, जिसकी मिसाल हरिद्वार में तैनात उत्तराखण्ड पुलिस के जवान यूनुस बेग ने पेश की है। यूनुस ने भारी बारिश के बीच पंडित जी के साथ मिलकर एक लावारिस शव का पूरे हिन्दू रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया और अंतिम क्रिया पूरी करने के बाद ही अपने घर गए।

शनिवार 18 सितम्बर की देर शाम हरिद्वार के मंगलौर क्षेत्रान्तर्गत आसफ नगर झाल से स्थानीय पुलिस को लगभग 35-40 वर्ष के एक युवक का शव सड़ीगली अवस्था में मिला। शव की शिनाख्त के काफी प्रयासों के बाद शव की शिनाख्त न होने पर उसकी शिनाख्त के प्रयास को जारी रखते हुए नियमानुसार शव को 72 घंटे सिविल हॉस्पिटल रुड़की के शवगृह में रखा गया। 72 घंटे में भी शिनाख्त न होने पर मंगलौर पुलिस ने 23 सितम्बर को शव का पोस्टमार्टम कराया।

चिकित्सकों द्वारा शाम लगभग 6 बजे शव को कांस्टेबल यूनुस बेग के सुपुर्द करते हुए उक्त शव किसी हिंदू व्यक्ति का होना बताया।

यूनुस ने अकेले ही भारी बारिश के लगातार खराब मौसम के बीच अस्पताल से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर सोलानी नदी रूडकी के शमशान घाट पर कई घंटे मेहनत/प्रयास कर शव का पंडित जी के साथ पूरे हिंदू रीति रिवाज से अपनी मौजूदगी में अंतिम संस्कार करवाया और अंतिम क्रिया पूरी करने के बाद ही अपने घर गए।

Post a Comment

0 Comments