खबर का असर: वायरल फीवर से मौतों के बाद हरकत में प्रशासन, पहुंचे कमिश्नर

राकेश पाण्डेय

लखनऊ। फ़िरोज़ाबाद जिले में वायरल फीवर और डेंगू से 50 मौतें हो चुकी है. मामले की गूंज जब लखनऊ तक पहुंची तो अफसर हरकत में आये. आगरा कमिश्नर ने रविवार को शहर का दौरा किया. UPUKLive ने इस खबर को प्रमुखता से उठाने के साथ ही मण्डल कमिश्नर अमित गुप्त के साथ जिलाधिकारी चंद्र विजय सिह से बात की थी. अफसरों ने 24 घंटे मे समस्या का संज्ञान लेते हुए कारवाई की है.

उन्होनें निर्देश दिए कि सफाई कर्मियों की संख्या बढ़ाई जाय, सफाई अभियान चलाया जाय, फॉगिंग के साथ एंटीलारवा का छिड़काव किया जाए। जनपद में बढ़ते डेंगू, वायरल व उससे पीड़ित लोगों को त्वरित राहत पहुचाने एवं डेंगू व वायरल बुखार पर जल्द नियंत्रण करने के उददेश्य से मण्डलायुक्त आगरा मण्डल आगरा अमित गुप्ता, सदर विधायक मनीष असीजा, जिलाधिकारी चंद्रविजय सिंह, मुख्य विकास अधिकारी चर्चित गौड़, नगर आयुक्त प्रेरणा शर्मा व मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 नीता कुलश्रेष्ट सहित स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम की टीम ने रैहना व एलान नगर एवं जिला अस्पताल का भ्रमण किया।

भ्रमण के दौरान उन्होने डेंगू, वायरल बुखार से हुई मृत्यु के बारें में जानकारी प्राप्त की। उन्होने क्षेत्र में बुखार से ग्रसित मरीजों का हाल व उनके चल रहे उपचार के बारे में सम्बन्धित अधिकारियों से जाना। मण्डलायुक्त, सदर विधायक एवं पूरी प्रशासनिक टीम ने बुखार से पीड़ित चल रहे पीयुष यादव पुत्र कालीचरन यादव के घर पहुंचकर उसकी मेडिकल जांचों एवं चल रहें इलाज को देखा। मण्डलायुक्त ने वहीं एलान नगर विद्युत स्टेशन पर बैठकर नगर आयुक्त, मुख्य चिकित्साधिकारी सहित सम्बन्धित अधिकारियों से विस्तृत रूप से क्षेत्र का हाल जाना.

इसके बाद उन्होने नगर आयुक्त को निर्दंश दिए कि शहर के डेंगू ग्रसित क्षेत्र में सफाई कर्मचारियों की संख्या और अधिक बड़ाऐं और एण्टी लार्वा, फोगिंग, नालियों व गलियों की साफ-सफाई निरंतर कराते रहें। निरीक्षण के दौरान मण्डलायुक्त ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि वह डेंगू, वायरल बुखार से ग्रसित प्रत्येक मोहल्ले बस्तियों में अपनी स्वास्थ्य टीमें और बढाये, कैम्प ज्यादा से ज्यादा लगाऐं। उन्होने निर्देश दिए कि नगर निगम, स्वास्थ्य विभाग संयुक्त रूप से अभियान चलाकर डेंगू, वायरल बुखार पर प्रभावी नियंत्रण करें।

निरीक्षण के उपरांत मण्डलायुक्त ने जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया और वहां भर्ती मरीजों के हाल जाना। उन्होंने प्राचार्या डा. संगीता अनेजा व मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 नीता कुलश्रेष्ट को निर्देशित किया कि वह जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों का बेहतर ढंग से इलाज कराना सुनिश्चित करें। 

उन्होने कहा कि चिकित्सकों का वार्ड में निरंतर निरीक्षण कराना सुनिश्चित कराऐं। उन्होने बाल रोग विशेषज्ञ डा0 एल के गुप्ता को निर्देश दिए कि वह  बच्चों को और बेहतर ढंग व पूरी जिम्मेदारी से इलाज करना सुनिश्चित करें।

Post a Comment

0 Comments