Friday, 11 June 2021

विधानसभा चुनाव से पहले क्या हो जाएगा यूपी का बंटवारा?


लखनऊ।
2022 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले यूपी के बंटवारे की चर्चा एक बार फिर हवा में है। मायावती जब यूपी की मुख्यमंत्री थीं, तब यूपी को चार हिस्सों में बांटने की कवायद शुरू हो गई थी. राज्य पुनर्गठन की सिफारिशें भी विधानसभा द्वारा पारित कर केंद्र को भेजी गईं। लेकिन तब यह प्रयास परवान नहीं चढ़ सका।

उस समय यूपी को चार टुकड़ों में बांटने की बात चल रही थी, पूर्वांचल, बुंदेखंड, हरित प्रदेश और अवध यानी उत्तर प्रदेश। अब एक बार फिर पूर्वांचल को अलग करने की बात सामने आई है। लेकिन एक बहुत बड़ा तबका है जो पूर्वांचल के 27 जिलों को मिलाकर बुद्धालैंड बनाने की मांग कर रहा है.

पूर्वांचल सेना यूपी के 27 जिलों को मिलाकर बुद्धालैंड बनाने की मांग कर रही है। पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले 21 नवंबर 2011 को केंद्र से यूपी को चार हिस्सों में बांटने की सिफारिश की थी. इसके बाद योगी आदित्यनाथ ने 6 सितंबर 2013 को संसद में पूर्वांचल राज्य के गठन की मांग भी उठाई.

यदि पूर्वांचल अलग राज्य बन जाता है तो गोरखपुर भी नए राज्य का हिस्सा हो जाएगा। यह योगी आदित्यनाथ का गढ़ है।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: