कांग्रेस की नयी रणनीति, मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों के जरिए मुस्लिम घरों में पैठ बनाएगी पार्टी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक कांग्रेस के अध्यक्ष शाहनवाज आलम का कहना है कि पार्टी में मुसलमानों की उपेक्षा के कारण अल्पसंख्यक वोट सपा और बसपा की ओर जाने लगे. लेकिन इन पार्टियों में भी मुसलमानों का ध्यान नहीं गया। 

यूपी में भी कांग्रेस के पास कोई मजबूत नेतृत्व नहीं था। इससे मुस्लिम वोटर बीजेपी के विरोध में सपा और बसपा के साथ जाने को मजबूर हुए, जिसका फायदा दोनों पार्टियां उठा रही थीं. लेकिन अब यूपी कांग्रेस को प्रियंका गांधी के रूप में अच्छा नेतृत्व मिला है. इसलिए मुसलमानों को कांग्रेस से जोड़ने की कवायद नए सिरे से शुरू हो रही है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मुस्लिम वोटरों को पार्टी से जोड़ने का अभियान मदरसों से शुरू किया जाएगा. गांव-गांव मोहल्लों में चल रहे दो लाख मदरसों की सूची तैयार कर ली गई है. पार्टी कार्यकर्ता इन मदरसों में जाएंगे और उलेमाओं के साथ बैठक करेंगे और मदरसों के छात्रों को कांग्रेस की नीतियों और चुनावी एजेंडे से अवगत कराएंगे। मदरसों के छात्रों की मदद से वे अपने घर पहुंचेंगे।

Post a Comment

0 Comments