Tuesday, 25 May 2021

कोई एफ़आईआर मुझे दबा नहीं सकती है: कमलनाथ

भोपाल।  प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि " शिवराज सरकार चाहती है कि मै चुप रहूँ , जनता की आवाज़ ना उठाऊँ , उनके हक़ की लड़ाई ना लड़ूँ लेकिन मैं चुप नहीं बैठूँगा, जीवन की आखऱी साँस तक जनता के हित की लड़ाई लड़ता रहूँगा , कोई एफ़आईआर मुझे दबा नहीं सकती है " पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार कोरोना  से हुई मौतों के आंकड़े छुपाती रहे , मै सच्चाई उजागर ना करूँ और चुप रहूँ?

उन्होंने कहा कि प्रदेश में लोगों को अस्पतालों में बेड नहीं मिले ,इलाज नहीं मिले और उनकी तड़प-तड़प कर मौत होती रहे और मैं चुप रहूँ ?
प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत हो जाये , सरकार 16 वर्ष में प्रदेश में एक भी ऑक्सीजन प्लांट नहीं लगवा पाये और मैं चुप रहूँ ?
प्रदेश में रेमड़ेसिविर इंजेक्शन व जीवन रक्षक दवाइयों की कमी से लोगों की जान जाती रहे ,उसकी कालाबाजारी होती रहे और मैं चुप रहूँ ?
प्रदेश के हज़ारों नागरिको की सरकार की लापरवाही , नाकारापन से मौत हो जाये , इसके दोषियों के ख़िलाफ़ मै कुछ ना बोलूँ  और चुप रहूँ ?
तमाम चेतावनियो के बावजूद प्रदेश में इलाज-बेड-ऑक्सीजन-इंजेक्शन की एक वर्ष की शिवराज सरकार ने कोई व्यवस्था नहीं की , जिसके कारण प्रदेश में हज़ारों बेगुनाह लोगों की मौत हो जाये और मै चुप रहूँ ?
-प्रदेश में टेस्टिंग कम हो , उसकी रिपोर्ट भी कई-कई दिन तक नहीं मिले , जनता परेशान होती रहे , भटकती रहे और मैं चुप रहूँ ?
-प्रदेश के लोगों को वैक्सिंग नहीं लगे , वो परेशान होती रहे , वैक्सीन के अभाव में संक्रमित होती रहे और मैं चुप रहूँ ?
प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति भयावह हो जाये , लोगों को ना इलाज मिले , ना डॉक्टर और ना दवाई और उसके बावजूद मैं चुप रहूँ ?
प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली पर मै कोई बात नहीं करूँ , मै बस चुप रहूँ ?
प्रदेश में ब्लैक फंगस के इंजेक्शन जरूरतमंदों को नहीं मिले , उन्हें दर-दर भटकना पड़े , उनके आंसू बहते रहे और मैं चुप रहूँ ?
मौत के बाद भी चैन नहीं ,ना शव वाहन मिले ,ना अंतिम संस्कार के लिए स्थान और ना लकडिय़ां मिले , फिर भी मै चुप रहूँ ?
हमारी बहन-बेटियाँ अस्पतालों में भी सुरक्षित नहीं , वहाँ भी उनके साथ दुराचार की घटनाएँ और मै चुप रहूँ ?
सरकार द्वारा झूठी योजनाओं की घोषणाएँ कर जनता को गुमराह किया जाये और मैं उसकी सच्चाई जनता को ना बताऊँ ,चुप रहूँ ?
मैं प्रदेश में सिफऱ् सरकारी आँकड़ो वालों को ही नहीं अपितु कोरोना से मृत सभी लोगों को अनुग्रह राशि मिले और यह एक लाख की बजाय पाँच लाख मिले , यह माँग सरकार से नहीं करूँ और चुप रहूँ ?
हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जनता को संकट के इस दौर में भगवान भरोसे छोड़ , ठोस कार्ययोजना बनाने की बजाय ,स्वास्थ्य आग्रह , मास्क लगाने ,शारीरिक दूरी का गोला बनाने जैसे नौटंकी भरे अभियान चलाये और मैं चुप रहूँ ?
शिवराज सरकार प्रदेश को भगवान भरोसे छोड़ चुनावों में लगी रहे और मैं चुप रहूँ ?
संकट के भीषण दौर में हमारे मुखिया जिलो का दौरा करने व लोगों का दु:ख दर्द जानने की बजाय ,वल्लभ भवन में बैठकर बैठक,समीक्षा और वीडियो कांफ्रेंसिंग की नौटंकी करते रहे और मैं चुप रहूँ ?
मै प्रदेश की जनता के हक की आवाज़ नहीं उठाऊँ ,वो लूटती-पिटती रहे ,मौत के आग़ोश में समाती रहे ,उनकी लड़ाई नहीं लड़ूँ , सच नहीं बोलूं ,बस चुप रहूँ ? अन्याय ,अत्याचार के खिलाफ आवाज नहीं उठाऊँ , बस चुप रहूँ ?  शिवराज सरकार यही चाहती है इसीलिये वास्तविक मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिये झूठे मुद्दे लाकर मेरी आवाज को दबाने का ,मुझे डराने-झुकाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन मेरे साथ प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता का स्नेह-प्रेम है।जिसके कारण मेरी आवाज को कोई दबा नहीं सकता है ,मुझे कोई डरा-झुका नहीं सकता है। प्रदेश की जनता के हित की आवाज उठाने के लिए मुझ पर कितनी भी एफआईआर दर्ज कर लो , मुझे कोई डर नहीं लगता है। मै चुप नहीं बैठूँगा ,जनता के हक़ की आवाज़ उठाता रहूँगा , सरकार की पोल खोलता रहूँगा, वास्तविकता व सच्चाई जनता को बताते रहूँगा , अव्यवस्थाओं - ख़ामियों व विफलताओं को उजागर करते रहूँगा।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: