Monday, 31 May 2021

रिस्तों का कत्ल : भाई-बहन के बीच की लवस्टोरी का ख़ौफ़नाक अंत

जमुई।  प्रेमी युगल ने 13 मार्च 2021 को आत्महत्या नहीं की थी बल्कि उसकी हत्या की गयी थी। इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट और पुलिस के अनुसंधान में हुआ है। इसके बाद लड़की के आरोपी माता-पिता से पुलिस ने रविवार को पूछताछ की, जिसमें आरोपियों की साजिश परत-दर-परत सामने आयी। मामला बिहार के जमुई जिले झाझा थाना क्षेत्र के पैरगाहा का है। खबरों के अनुसार रविवार को झाझा थाना में जमुई एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने प्रेसवार्ता कर घटना के बारे में बताया। पूछताछ के लिए लाये गये मृत लड़के के मां-पिता ने भी इस तथ्य की पुष्टि की है। 

एसपी ने भी मृतकों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में हत्या के तथ्य की पुष्टि हो जाने की जानकारी दी और कहा कि पैरगाहा के तूफानी यादव की पुत्री गुड़िया कुमारी (16) और आसो यादव का पुत्र कुंदन कुमार (18) चचेरे भाई-बहन थे और दोनों के बीच घनिष्ठता थी। लड़की के पिता ने बेटी का रिश्ता किसी अन्य लड़के से तय कर दिया था और घटना के तीन दिन पहले लड़की का तिलक भी दे दिया था। 

एसी ने बताया कि 14 मार्च को शव बरामदगी के दो दिन पहले लड़का 12 मार्च को देवघर से अपने गांव लौटा था। देवघर में वह पढ़ाई करता था और मोबाइल से लड़की के संपर्क में रहता था। 13 मार्च को आरोपी तूफानी ने सहयोगियों के साथ साजिश रचते हुए लड़के को किसी अज्ञात स्थान पर बुलाया। 

पहले उसकी और फिर अपनी बेटी की भी हत्या कर दी। उसके अगले दिन दोनों के शव झाझा थाना के नकटी डैम में मिले थे। घटना के बाद पुलिस थाने में आत्महत्या (यूडी केस) का केस दर्ज हुआ था। 

एसपी ने मीडिया को बताया कि पुलिस के बयान पर उक्त केस को री-ओपन करते हुए मुख्य आरोपी तूफानी यादव, गिरीधारी यादव को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य पांच नामजद की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। पुलिस ने घटनाक्रम को समझने के लिए लड़के के मां-बाप को भी पूछताछ के लिए बुलाया था। 

सूत्रों के मुताबिक पुलिस लड़की के पिता को इस मामल में सरकारी गवाह भी बना सकती है। मौके पर जमुई डीएसपी लाल बाबू यादव, झाझा के एसडीपीओ सतीश चंद मिश्र, एसएचओ श्रीकांत कुमार व आईओ रामाधार यादव मौजूद थे।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: