Thursday, 6 May 2021

बलात्कार पीड़िता व बच्ची के नाम को सार्वजनिक करना जघन्य अपराध

भोपाल। मध्यप्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य संगीता शर्मा ने अपने एक बयान में कहा कि मप्र के एक भाजपा प्रवक्ता द्वारा अपने ट्वीट अकाउंट से बंगाल की एक बच्ची के नाम एवं तस्वीर का उपयोग किया है जो कि आईपीसी की धारा के तहत किसी भी बलातर की शिकार लड़की या महिला का नाम प्रचारित-प्रकाशित करने और उसके नाम को ज्ञात बनानेसे संबंधित कोई अन्य मामला आईपीसी की धारा 228ए के तहत अपराध है।

आईपीसी की धारा 376, 376ए, 376बी, 376सी, 376डी,3786बी के तहत केस पीडि़ता का नाम प्रिंट या पब्लिश करने पर दो साल तक की कैद और जुर्माना हो सकता है। 

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: