Thursday, 27 May 2021

मुख्यमंत्री ने देवरिया में जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ की बैठक, दिए निर्देश

देवरिया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद देवरिया में पी0एच0सी0, सी0एच0सी0, सब सेण्टर, हेल्थ एण्ड वेलनेस सेण्टर को सक्रिय किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके, इसके लिए जिला अस्पताल में 20 बेड के पीकू वॉर्ड तथा विकास खण्ड लार में मिनी पीकू का निर्माण कराया जाए।

मुख्यमंत्री बुद्धवार को जनपद देवरिया के गांधी सभागार में आयोजित एक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में जनप्रतिनिधिगण तथा अधिकारी सम्मिलित हुए। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के माध्यम से कई बीमारियों को रोकने में मदद मिलती है। इसके दृष्टिगत जिले में व्यापक स्तर पर सफाई अभियान चलाया जाए। ग्राम प्रधान की निधि से सैनिटाइजेशन मशीन खरीदकर गांवों में सैनिटाइजेशन कराया जाए।

कोविड प्रबन्धन कार्यों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड मरीजों तथा नॉन कोविड मरीजों का टेलीमेडिसिन के माध्यम से मेडिकल परामर्श दिया जाए। महिलाओं एवं बच्चों के लिए डेडिकेटेड अस्पताल की व्यवस्था की जाए। जरूरतमन्दों तथा कोविड मरीजों के तीमारदारों को कम्युनिटी किचन के माध्यम से भोजन उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कण्टेनमेण्ट जोन के प्राविधानों को सख्ती से लागू करने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने निगरानी समिति के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि निगरानी समितियां प्रभावी ढंग से कार्य करें। डोर-टू-डोर सर्वे के माध्यम से लोगों की स्क्रीनिंग की जाए। लक्षणयुक्त तथा संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध लोगांं को तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध करायी जाए। आर0आर0टी0 द्वारा ऐसे व्यक्तियों का कोविड टेस्ट किया जाए। इन व्यक्तियों की सूची इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर (आई0सी0सी0सी0) को उपलब्ध करायी जाए।
मुख्यमंत्री ने कोविड टीकाकरण अभियान की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि आगामी 01 जून से 18 से 44 आयु वर्ग के लिए प्रारम्भ होने वाले टीकाकरण कार्य में न्यायिक अधिकारियों, पत्रकारों, सरकारी कर्मचारियों, शिक्षकों के लिए अलग-अलग बूथ बनाए जाएं। जनप्रतिनिधियों को वैक्सीनेशन कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाए। वैक्सीनेशन वेस्टेज को शून्य करने के प्रभावी प्रयास किए जाएं। उन्होंने वैक्सीनेशन के लिए लोगों को जागरूक किए जाने पर बल दिया।
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत खाद्यान्न वितरण की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि वितरण की कार्यवाही पूरी पारदर्शिता के साथ की जाए। उन्होंने कहा कि आगामी जून माह से प्रदेश सरकार द्वारा भी पात्र कार्डधारकों सहित सभी जरूरतमन्दों को निःशुल्क खाद्यान्न का वितरण किया जाएगा। गेहूं क्रय केन्द्रों पर किसानों से गेहूं की खरीद पूरी सक्रियता से की जाए। जिन क्रय केन्द्रों के सम्बन्ध में शिकायत मिले, उसका संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी द्वारा कार्यवाही की जाए। जनप्रतिनिधिगण भी गेहूं क्रय केन्द्रां का निरीक्षण कर, वहां की व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में अपना फीडबैक जिला प्रशासन को उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि आंशिक कोरोना कर्फ्यू के दौरान औद्योगिक इकाइयां संचालित रहें।
इस अवसर पर जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने बताया कि जनपद का रिकवरी रेट लगभग 93 प्रतिशत है। विगत एक सप्ताह में 25 हजार से ज्यादा सैम्पलिंग की गयी है। जनपद मे पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। कोविड वैक्सीनेशन में कुल 02 लाख 18 हजार 918 वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। जनपद में 1301 निगरानी समितियां कार्य कर रही हैं। 70 आर0आर0टी द्वारा कोविड जांच की जा रही है।  
जनपद के एल-2 हॉस्पिटल में मरीजों के तीमारदारों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देने के लिए अस्पताल के बाहर एल0सी0डी0 टी0वी0 लगाया गया है। जिला अस्पताल में पोस्ट कोविड कॉम्प्लीकेशन प्रबन्धन हेतु 10 बेड आरक्षित किए गए हैं। कोविड की सम्भावित तीसरी लहर से बचाव हेतु जिला अस्पताल में एक पीकू, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रूद्रपुर में मिनी पीकू एवं 16 ई0टी0सी0 वॉर्डों को क्रियाशील कर दिया गया है। जनपद में कुपोषित बच्चों को तीसरी लहर के कोविड संक्रमण से बचाने हेतु बाल विकास पुष्टाहार परियोजना के माध्यम से सप्लीमेण्ट्री न्युट्रीशन उपलब्ध कराया जा रहा है। बच्चों के अभिभावकों को कोविड टीकाकरण हेतु स्वास्थ्य विभाग से समन्वय स्थापित कर टीकाकरण कराया जा रहा है।
इस अवसर पर कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, पशुधन एवं मत्स्य राज्यमंत्री जय प्रताप निषाद सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, मण्डलायुक्त जयन्त नार्लिकर, वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: