अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से शुरू होने के मिले संकेत

जम्मू। एक ओर, कोरोना के कारण, पूरे देश में धार्मिक यात्राओं को लगभग स्थगित कर दिया गया है, जबकि विश्व प्रसिद्ध श्री अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से जम्मू और कश्मीर के नए केंद्र शासित प्रदेश में शुरू होने जा रही है। राज्य प्रशासन ने अभी तक इस यात्रा की तारीख की घोषणा नहीं की है, लेकिन इसके शुरू होने के संकेत के साथ तैयारी शुरू कर दी है।

इस संबंध में तैयारी 5 जुलाई को अमरनाथ गुफा में केंद्र शासित राज्य जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल, जीसी मुर्मू द्वारा शुरू की गई है, साथ ही बर्फ के शिवलिंग की विधिवत पूजा की जाती है। 5 जुलाई को, दशनामी अखाड़े के महंत देवेंद्र गिरि जी महाराज ने पहलगाम में विधिवत पूजा अर्चना के बाद यात्रा की शुरुआत के संकेत दिए। इस बार की यात्रा केवल बालटाल मार्ग से होने की संभावना है। इसके साथ, इतिहास में पहली बार पवित्र गुफा से आरती का लाइव प्रसारण भी शुरू हुआ है, जिसे दूरदर्शन पर सुबह 6 से 6.30 और शाम को 5 से 5.30 बजे तक देखा जा सकता है।

इस यात्रा से जुड़ी सभी तरह की तैयारियां उपराज्यपाल ने हिमखंड की पूजा करके शुरू कर दी हैं। सभी प्रकार की व्यवस्थाओं पर पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय हो गया है। जम्मू के भगवती नगर में स्थित आधार शिविर में सभी प्रकार की तैयारियाँ जोरों पर हैं। पूरे भवन को पवित्र कर दिया गया है और यात्रियों के आवास और सुरक्षा के लिए सभी प्रबंध किए जा रहे हैं। राज्य के मुख्य द्वार लखनपुर में टर्मिनल और काउंटर बनाए जा रहे हैं, जहाँ बाहरी राज्यों से आने वाले भक्तों का पंजीकरण होगा और कोरोना से संबंधित नमूने लिए जाएंगे। प्रवेश द्वार पर श्रद्धालुओं के ठहरने के साथ अन्य सुविधाओं की व्यवस्था की जाएगी।

यात्रा को सुचारू रूप से चलाने के लिए, कई समितियों का गठन किया गया है, जो लंगर के स्थानों के साथ-साथ यात्रा से जुड़ी अन्य व्यवस्थाओं की समीक्षा करेंगी। स्वास्थ्य निदेशालय, जम्मू ने यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिए 10 डॉक्टरों और 17 पैरामेडिकल स्टाफ को कश्मीर भेजने का फैसला किया है। स्वास्थ्य निदेशक डॉ. रेणु खजुरिया के निर्देशों के अनुसार, उन्हें स्वास्थ्य निदेशालय कश्मीर में रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। ऐसा माना जाता है कि हर दिन लगभग 500 भक्त श्री अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना होंगे।

Post a Comment

0 Comments