यहां प्रसाद में चढ़ाई जाती हैं चॉकलेट, जानिए क्या है मान्यता?

आपने सुना ही होगा कि भगवान भोग के भूखे होते है। मंदिर में भगवान को फूल, धूप, अगरबत्ती के साथ ही प्रसाद भी चढ़ाया जाता है। प्रसाद में मिश्री, फल, मिठाई आदि चढ़ाए जाते हैं। कम से कम अब तक आपने जितने मंदिरों के दर्शन किए होंगे उनमें कुछ ऐसा ही प्रसाद चढ़ाया जाता होगा।
यहां प्रसाद में चढ़ाई जाती है चॉकलेट:
केरल का एक मंदिर बहुत अनोखा है यहां भगवान को चॉकलेट चढ़ाई जाती है जो बच्चों की फेवरेट होती है।केरल के अलेप्पी या अलाप्पुझा में एक ऐसा मंदिर है, जहां भक्तगण भगवान को चॉकलेट का भोग लगाते हैं। ‘भारत का वेनिस’ नाम से मशहूर शहर अलेप्पी का थेक्कन पलानी बालसुब्रमण्यम मंदिर इकलौता ऐसा मंदिर है, जहां श्रद्धालु भगवान मुरुगन की सेवा में चॉकलेट चढा़ते हैं।
प्रसाद में वितरित भी की जाती है चॉकलेट:
यहां पहले सिर्फ बच्चे ही चॉकलेट चढ़ाते थे, मगर अब सब ऐसी ही करते हैं। इस मंदिर में भगवान मुरुगन के बालरुप की पूजा होती है, जो ‘मंच मुरगन’ के नाम से विख्यात हैं। हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार, मुरुगन को सुब्रमण्यम और कार्तिकेय के नाम से भी जाना जाता है, जो शिव और देवी पार्वती के पुत्र हैं।
क्या है मान्यता:
यहां माना जाता है कि भगवान मुरगन के बालक रुप को चॉकलेट पसंद आएगा, यही सोचकर यह रोचक रिवाज शुरु हुआ होगा। भारत को यूं ही विविधताओं वाला देश थोड़े ही कहा जाता है यहां लोगों से लेकर भगवान और उनकी पूजा करने के तरीकों तक में विविधता दिखाई देती है।

Post a Comment

0 Comments