हाई हील्स बनाने की असली वजह से अभी अंजान हैं आप...दंग रह जाएंगे जानकर

आजकल के जमाने में हाई हील्स का फैशन है। फैशन के इस दौर में लड़कियां शादी हो या फिर बर्थ डे पार्टी या फिर डेली यूज में भी हाई हील्स को पहनना पसंद करती है। अब आपको भले ही यह ट्रेंडिंग लगें, लेकिन बता दें यह दौर हजारों सालों पहले भी चला था, लेकिन फैशन के चलते नहीं बल्कि एक खास वजह से हाई हील्स को बनाया गया था। इतना ही नहीं, उन दिनों हाई हील्स महिलाओं के लिए नहीं बल्कि पुरूषों के लिए था। आइए आपको इस सिलसिले में प्राचीन मिस्र के जमाने में लेकर चलते हैं।
3500 ईसा पूर्व में भी लोग हाई हील्स पहनते थे। प्राचीन मिस्त्र के भित्ति चित्रों में इस सारी चीजों का वर्णन मिलता है। उन दिनों अमीर लोग हाई हील्स के जूते पहनते थे, इनमें पुरूषों के साथ महिलाएं भी शामिल थी।
अमीर तबके के लोग इसे इसलिए पहनते थे ताकि समाज में वे निम्न वर्गों से अलग दिखें यानि कि उच्च वर्ग के लोग खुद को निम्न वर्ग से भिन्न दिखाने के लिए हाई हील्स का उपयोग करते थे।
निम्न श्रेणी के व्यक्ति सामान्यत नंगे पैर चलते थे और उच्च वर्ग के लोग हाई हील्स पहनकर स्वयं को उनसे अलग दिखाते थे।
इसके साथ ही हाई हील्स को मुख्य रूप से कसाईयों के लिए बनाया गया था। जी हां, आपको जानकर ये भले ही अजीब लगें, लेकिन प्राचीन मिस्त्र के इतिहास में इस बात का जिक्र मिलता है। कसाई इसे इस वजह से पहनते थे ताकि वे बूचड़खानों में आराम से चल सकें। उनके पैर गंदे न हों। जानवरों के खून और बाकी गंदगियों से अपने पैरों को बचाने के लिए और जमीन से पैर को थोड़ी ऊंचाई पर रखने के लिए प्राचीन मिस्त्र में कसाई हाई हील्स का उपयोग करते थे।
आज भले ही मात्र लड़कियां फैशन के चलते हाई हील्स को पहनती हैं, लेकिन इस चीज की उत्पत्ति सदियों पहले इन खास वजहों से हुई थी। यानि कि इससे एक बात तो साफ है और वह ये कि इतिहास फिर से खुद को दोहरा रहा है।

Post a Comment

0 Comments